हादसे के कारखाने,

मुजफ्फरपुर के एक कारखाने में हुए भयावह हादसे ने एक बार फिर औद्योगिक सुरक्षा के मानकों को प्रश्नांकित किया है। इस कारखाने में नूडल्स और दूसरे डिब्बाबंद नाश्ते का उत्पादन होता था। रविवार की सुबह कारखाने का बायलर फट गया, जिसमें छह लोगों के मारे जाने की खबर है। बताया जा रहा है कि जिस समय बायलर फटा, उस वक्त करीब पच्चीस मजदूर उस हिस्से में काम कर रहे थे। ज्यादातर मजदूर दिहाड़ी पर काम करने वाले थे। हादसा इतना भयावह था कि धमाके का असर तीन से चार किलोमीटर दूर तक महसूस किया गया।

कारखाने के परखच्चे उड़ गए और आसपास के कारखाने भी क्षतिग्रस्त हो गए। इस तरह इस हादसे में घायल मजदूरों की स्थिति का भी अंदाजा लगाया जा सकता है। कारखानों में इस तरह के हादसे जब-तब सुनने-देखने को मिलते रहते हैं। कहीं गैस रिसाव की वजह से, तो कहीं आग लगने की वजह से मजदूरों की जान चली जाती है। सरकारें ऐसे हादसों पर कुछ देर को चिंता जता, मुआवजे और जांच की घोषणा कर अपनी जिम्मेदारी पूरी समझ लेती हैं। ताजा घटना में भी बिहार सरकार ने मृतकों के लिए चार-चार लाख रुपए मुआवजे की घोषणा कर अपनी जिम्मेदारी पूरी कर दी है। मगर यह सवाल फिर भी अनुत्तरित है कि इस तरह के हादसे रोकने के लिए सरकारें कब गंभीरता दिखाएंगी या कोई व्यावहारिक नीति बन पाएगी।

हमारे देश में औद्योगिक हादसों को लेकर कोई कड़ा कानून नहीं है। इसलिए जब भी ऐसी घटनाएं होती हैं, तो मरने वालों के परिजनों को मुआवजा वगैरह देकर या समझा-बुझा कर शांत कर दिया जाता है। दूसरे देशों में ऐसी घटनाओं पर कड़े दंड और भारी जुर्माने का प्रावधान है। इसलिए वे सुरक्षा संबंधी तमाम पहलुओं पर खासे सतर्क देखे जाते हैं। अपने यहां अव्वल तो बहुत सारे कारखाने बिना लाइसेंस के, प्रशासन से साठगांठ करके चलाए जाते हैं। जिनके पास लाइसेंस होता भी है, वे पर्यावरण प्रदूषण, अग्निशमन, मजदूरों की सुरक्षा और मशीनों आदि के तकनीकी पक्षों को ठीक रखने के मामले में लापरवाह ही देखे जाते हैं। इनमें से ज्यादातर में अप्रशिक्षित और दिहाड़ी मजदूरों से काम लिया जाता है। मुजफ्फरपुर के जिस कारखाने में हादसा हुआ उसमें भी ज्यादातर दिहाड़ी मजदूर ही काम करते बताए जा रहे हैं। मशीनें चलाने के लिए अप्रशिक्षित मजदूरों को रखने का मतलब है, खतरे को न्योता देना। मगर ढेर सारे कारखाने इसलिए नियमित मजदूर रखने से बचते हैं, ताकि औद्योगिक नियम-कायदों की जवाबदेही से बच सकें।

\\\"स्वर्णिम
+91 120 4319808|9470846577

स्वर्णिम भारत न्यूज़ हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.

4 0 21

मनोज शर्मा

मनोज शर्मा (जन्म 1968) स्वर्णिम भारत के संस्थापक-प्रकाशक , प्रधान संपादक और मेन्टम सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Laptops | Up to 40% off

मोबाइल ऐप डाउनलोड करे

मोबाइल ऐप डाउनलोड करे

स्वर्णिम भारत न्यूज़ के एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करे

और पढ़ें देश, दुनिया, महानगर, बॉलीवुड, खेल

और अर्थ जगत की ताजा खबरें