नया समीकरण,

चंडीगढ़ नगर निगम के चुनाव एक ऐसे वक्त में हुए, जब पंजाब में विधानसभा चुनाव की गहमागहमी है। राजनीतिक दल इसके लिए पहले से समीकरण बना चुके हैं। जाहिर सी बात है कि उस समीकरण का असर निगम चुनाव में दिखना था। स्वाभाविक ही इस लिहाज से भी इन नतीजों को देखा जा रहा है। आम आदमी पार्टी पहली बार चुनाव मैदान में उतरी, और उसने निगम चुनाव में सारे राजनीतिक दलों को पछाड़ दिया है।

चंडीगढ़ नगर निगम की कुल पैंतीस में से चौदह सीटें उसकी झोली में गई हैं। भाजपा को बारह, कांग्रेस को आठ और अकाली दल-बसपा गठबंधन को मात्र एक सीट पर संतोष करना पड़ा है। इसके पहले वहां निगम पर भाजपा का कब्जा था। हालांकि वहां के लोगों ने भाजपा को इस बार सिरे से तो खारिज नहीं किया है, पर जिस तरह उन्होंने आम आदमी पार्टी में अपना भरोसा अधिक जताया है, उससे विधानसभा चुनावों में नया समीकरण बनता दिख रहा है। हालांकि पंजाब में कांग्रेस की सरकार है और इस बार निगम चुनाव में पिछली बार की तुलना में उसे बढ़त हासिल हुई है। यह उसके लिए संतोष की बात हो सकती है, पर इसमें चुनौती तो उसकी भी साफ नजर आ रही है।

पंजाब में आम आदमी पार्टी ने चुनाव लड़ने का एलान अचानक नहीं किया है। इसकी तैयारी वह पिछले आम चुनाव के वक्त से कर रही थी। फिर जब भाजपा-अकाली दल गठबंधन टूटा और बसपा-अकाली दल गठबंधन बना, तो उसमें दलित मतों को लेकर एक नया समीकरण दिखाई देने लगा। पंजाब में माना जाता है कि जिस दल के साथ दलित मतदाता खड़े हो जाते हैं, विजय उसी की होती है।

इस लिहाज से अकाली दल का दांव अच्छा था। पर उस दांव की काट में कांग्रेस ने नेतृत्व परिवर्तन कर दलित मुख्यमंत्री नियुक्त कर दिया, तो अकाली दल का समीकरण कमजोर पड़ गया। मगर आम आदमी पार्टी शुरू से अपने दिल्ली के कामकाज के आधार पर समीकरण बनाती रही। उसमें उसने बिजली, महिलाओं को वजीफा वगैरह की मुफ्त योजनाएं भी घोषित कर दी थी। दलित मतदाताओं को रिझाने के लिए भी उसने योजनाएं बना रखी हैं। मगर लग रहा था कि इसका असर वहां के लोगों पर नहीं पड़ेगा। अब साबित हो गया है कि वहां के लोगों का मिजाज बदला है। अभी तक पंजाब और चंडीगढ़ में कांग्रेस, भाजपा और अकाली दल का दबदबा रहा है। मगर आम आदमी ने वह दबदबा लगभग खत्म कर दिया है।

\\\"स्वर्णिम
+91 120 4319808|9470846577

स्वर्णिम भारत न्यूज़ हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.

4 0 27

मनोज शर्मा

मनोज शर्मा (जन्म 1968) स्वर्णिम भारत के संस्थापक-प्रकाशक , प्रधान संपादक और मेन्टम सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Laptops | Up to 40% off

मोबाइल ऐप डाउनलोड करे

मोबाइल ऐप डाउनलोड करे

स्वर्णिम भारत न्यूज़ के एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करे

और पढ़ें देश, दुनिया, महानगर, बॉलीवुड, खेल

और अर्थ जगत की ताजा खबरें