Shani Dev: 12 जुलाई से शनि देव चलेंगे उल्टी चाल, इन राशियों पर शुरू होगा साढ़ेसाती का प्रभाव

वैदिक ज्योतिष के मुताबिक जब भी कोई ग्रह गोचर करता है। तो उसका सीधा असर मानव जीवन और पृथ्वी पर पड़ता है। आपको बता दें कि ग्रहों के न्यायाधीश शनि देव ने 29 अप्रैल को अपनी मूलत्रिकोण राशि कुंभ में प्रव

4 1 39
Read Time5 Minute, 17 Second

वैदिक ज्योतिष के मुताबिक जब भी कोई ग्रह गोचर करता है। तो उसका सीधा असर मानव जीवन और पृथ्वी पर पड़ता है। आपको बता दें कि ग्रहों के न्यायाधीश शनि देव ने 29 अप्रैल को अपनी मूलत्रिकोण राशि कुंभ में प्रवेश कर लिया है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जब भी शनि देव गोचर करते हैं तो किसी राशि पर साढ़ेसाती का प्रभाव शुरू होता है तो किसी को साढ़ेसाती से मुक्ति मिलती है। लेकिन जब भी शनि देव 12 जुलाई को वक्री होने जा रहे हैं, जिससे 2 राशियां फिर से साढ़ेसाती की चपेट में आ जाएंगी। आइए जानते हैं…

इन राशियों पर शुरू हुई साढ़ेसाती:

ज्योतिष पंचांग के मुताबिक 29 अप्रैल को शनि देव ने अपनी प्रिय राशि कुंभ में प्रवेश कर लिया है। जिसके बाद मीन राशि वालों पर साढ़ेसाती का प्रथम चरण शुरू हो गया है। वहीं धनु राशि के लोगों को साढ़ेसाती से मुक्ति मिल गई है। वहीं अगर मकर राशि वालों की बात करें तो मकर वालों पर साढ़ेसाती का आखिरी चरण प्रारंभ हो गया, जो सबसे कष्टकारी और परेशानियों से भरा माना जाता है। इस चक्र में शनि पैरों पर रहते हैं और घुटनों और पैरों सें संबंधित कष्ट देते हैं। साथ ही कामों में रुकावट आती है। वहीं कुंभ वालों पर दूसरा चरण शुरू हो गया है। इसलिए इन राशि वालों को थोड़ा शारीरिक कष्ट और परेशानी झेलनी पड़ सकती हैं।

जुलाई में इन राशियों पर शुरू होगा साढ़ेसाती का प्रभाव:

वैदिक पंचांग के अनुसार 17 जनवरी 2023 से शनि के मार्गी होने पर तुला और मिथुन राशि से पूरी तरह ढैय्या का प्रभाव खत्म हो जाएगा। तुला राशि पर शनि की ढैय्या 24 जनवरी 2020 से चल रही है। वहीं 2022 अप्रैल में धनु राशि वालों को शनि की साढ़ेसाती से राहत मिलेगी, परंतु 12 जुलाई 2022 को शनि वक्री होकर फिर से मकर राशि में प्रवेश करेंगे। इसके बाद 17 जनवरी 2023 को धनु राशि वालों को शनि की साढ़ेसाती से और मिथुन राशि वालों को ढैय्या से पूरी तरह मुक्ति मिलेगी।

शनि देव की साढ़ेसाती साढ़े 7 के लिए होती है। वहीं शनि की ढैय्या की अवधि ढाई साल की होती है। आपको बता दें कि शनि देव अगर कुंडली में सकारात्मक स्थित हैं तो शनि की इन दशाओं में मनुष्य को कम कष्ट भोगने पड़ने लगते हैं। वहीं अगर शनि कुंडली में नकारात्मक विराजमान है तो मनुष्य को काफी कष्टों का सामना करना पड़ता है।

\\\"स्वर्णिम
+91 120 4319808|9470846577

स्वर्णिम भारत न्यूज़ हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.

मनोज शर्मा

मनोज शर्मा (जन्म 1968) स्वर्णिम भारत के संस्थापक-प्रकाशक , प्रधान संपादक और मेन्टम सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Laptops | Up to 40% off

अगली खबर

यह नंबर डायल करते ही हैक हो जाएगा WhatsApp अकाउंट, कभी न करें ये गलतियां

WhatsApp पर फ्रॉड के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। यूजर्स को लूटने के लिए हैकर्स हर दिन नए-नए तरीके अपना रहे हैं। अब इसी क्रम में सुरक्षा विशेषज्ञों ने एक नए धोखाधड़ी की खोज की है, जिसमें सिर्फ एक फोन

आपके पसंद का न्यूज

Subscribe US Now