दिल्ली के रहने वाले मंथन का पहला रोमांटिक Rencontre गाना आउट, इंप्रेस हुए फैंस

Manthan Rencontre Song: कई गाने ऐसे होते हैं जो दिल को छू लेते हैं. ऐसा ही एक इंग्लिश गाना इन दिनों लोगों को खूब पसंद आ रहा है. खास बात है कि इस गाने को सिंगर मंथन ने खुद ही लिखा है और अपनी आवाज भी दी है. मंथन ने इस इंग्लिश गाने से डेब्यू किया. जो

4 1 19
Read Time5 Minute, 17 Second

Manthan Rencontre Song: कई गाने ऐसे होते हैं जो दिल को छू लेते हैं. ऐसा ही एक इंग्लिश गाना इन दिनों लोगों को खूब पसंद आ रहा है. खास बात है कि इस गाने को सिंगर मंथन ने खुद ही लिखा है और अपनी आवाज भी दी है. मंथन ने इस इंग्लिश गाने से डेब्यू किया. जो धीरे-धीरे लोगों के जहन में बसता जा रहा है.

बेहतरीन इंग्लिश सॉन्ग मंथन के इस गाने को स्पॉटिफाई, ऐप्पल म्यूजिक, अमेजन म्यूजिक और इसे आप यूट्यूब पर सुन सकते हैं. इस इंग्लिश गाने के बोल हैं- 'प्लीज कम बैक टू मी एवरी डे.' 2 मिनट 54 सेकेंड का Rencontre गाने के लिरिक्स मंथन ने खुद लिखे हैं. साथ ही इसे कंपोज भी किया है. गाने के प्रोडक्शन और मिक्सिंग का काम शरद जोशी ने किया है. दिल्ली के रहने वाले मंथन का ये गाना चार्ट बीट पर चढ़ता जा रहा है और उसे फैंस का खूब प्यार भी मिल रहा है.

It was my silence that spoke for years, now my words will! Announcing the song-title very sooner! Please stay tuned!

Abhinav Saha pic.twitter.com/CChjyAireH

— Manthan (@mistermanthan) May 24, 2024

2014 से की थी म्यूजिक करियर की शुरुआत मंथन ने अपने म्यूजिक करियर की शुरुआत साल 2014 से की थी. इस गाने ने रिलीज होते ही लोगों का अटेंशन मिल रहा है और स्पॉटिफाई पर मंथन की ग्रोथ भी साफ नजर आ रही है. इस गाने को रिलीज करने से पहले मंथन ने ट्वीट करके अपनी इतने साल की मेहनत को खास अंदाज में बताया था. मंथन ने ट्वीट किया- 'सालों तक मेरी खामोशी ही बोलती थी, अब मेरे शब्द बोलेंगे! मैं अपने इस गाने के टाइटिल का ऐलान जल्द करूंगा.'

\\\"स्वर्णिम
+91 120 4319808|9470846577

स्वर्णिम भारत न्यूज़ हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.

मनोज शर्मा

मनोज शर्मा (जन्म 1968) स्वर्णिम भारत के संस्थापक-प्रकाशक , प्रधान संपादक और मेन्टम सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Laptops | Up to 40% off

अगली खबर

10वीं में थर्ड डिवीजन, हर शुक्रवार मूवी का चस्का... बिना UPSC परीक्षा दिए IPS बनने वाले अनिल राय की कहानी

नई दिल्ली: उसे फिल्मों का बड़ा चस्का था। इधर फिल्म रिलीज होती और उधर पहले दिन का पहला शो देखने वो सिनेमा हॉल के बाहर खड़ा नजर आता। पढ़ाई-लिखाई में उसकी दिलचस्पी ना के बराबर थी। लेकिन पिता के दबाव की वजह से वो स्कूल चला जाता था। पिता की ख्वाहिश थ

आपके पसंद का न्यूज

Subscribe US Now