Donald Trump- डोनाल्ड ट्रंप की कंपनी कर धोखाधड़ी मामले में दोषी करार, 13 करोड़ से ज्यादा का लगा जुर्माना

न्यूयॉर्क, एजेंसी। पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की कंपनी पर न्यूयॉक की एक अदालत ने 16 लाख डॉलर (13 करोड़ लगभग) का जुर्माना लगाया है। कंपनी पर यह जुर्माना इसलिए लगाया गया है क्योंकि कंपनी की एक योजना से इसके अधिकारियों ने ट्रंप भ

4 1 43
Read Time5 Minute, 17 Second

न्यूयॉर्क, एजेंसी। पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की कंपनी पर न्यूयॉक की एक अदालत ने 16 लाख डॉलर (13 करोड़ लगभग) का जुर्माना लगाया है। कंपनी पर यह जुर्माना इसलिए लगाया गया है क्योंकि कंपनी की एक योजना से इसके अधिकारियों ने ट्रंप भवनों में बिना किराए के अपार्टमेंट, मंहगी गाड़ियों और बच्चों की स्कूल फीस जैसे नौकरी से जुड़े बेशकीमती लाभ उठाकर व्यक्तिगत आयकर की चोरी की। ट्रंप की कंपनी को पिछले माह षडयंत्र और व्यावसायिक रिकॉर्ड में हेरफेर सहित 17 कर अपराधों के लिए दोषी पाया गया। इन अपराधों के लिए दंड के रूप में मात्र जुर्माना ही किया जा सकता था।

‒‒:‒‒
/
01:25

14 दिन के भीतर जुर्माने की राशि जमा करने के निर्देश

ट्रंप स्वयं मुकदमे में शामिल नहीं थे और उन्होंने अपने अधिकारियों द्वारा कर चोरी किए जाने की जानकारी होने से इनकार किया। इस मामले में ट्रंप ऑर्गनाइजेशन की सहायक कंपनियों ट्रंप कॉर्प और ट्रंप पेरोल कॉर्प पर आठ लाख दस हजार डॉलर और आठ लाख डॉलर का जुर्माना किया गया है। अदालत ने 14 दिन के भीतर जुर्माने की राशि जमा करने के निर्देश दिए हैं।

jagran

निर्णय के खिलाफ अपील करेंगे ट्रंप

यह जुर्माना ट्रंप टॉवर के एक अपार्टमेंट की कीमत से भी कम है और इससे कंपनी की आर्थिक स्थिति या इसकी भविष्य की योजनाओं पर कोई बड़ा असर पड़ने की संभावना नहीं है फिर भी इससे रिपब्लिकन पार्टी की तरफ से दोबारा अमेरिकी राष्ट्रपति बनने के लिए प्रयासरत ट्रंप की व्यावसायिक छवि खराब होगी। पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप या कंपनी चलाने में उनकी सहायता करने वाले बच्चों में से कोई भी सजा दिए जाने के दौरान अदालत में मौजूद नहीं था। इस जुर्माने के बाद जारी किए गए बयान में ट्रंप की कंपनी ने कहा है कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया है और वह इस निर्णय के खिलाफ अपील करेंगे। बयान में जुर्माने को राजनीति से प्रेरित और बेवजह प्रताड़ित करने का मामला बताया गया है।

वित्तीय अधिकारी वीसेलबर्ग को पांच माह की सजा

कंपनी के अलावा, इस मामले में एक अधिकारी को आरोपित किया गया था। ट्रंप ऑर्गनाइजेशन के पूर्व मुख्य वित्तीय अधिकारी एलन वीसेलबर्ग ने 17 लाख डॉलर की कर चोरी का अपराध स्वीकार किया था। उन्हें पांच माह की सजा सुनाई गई। वेसलवर्ग को कंपनी की तरफ से रहने के लिए मुफ्त अपार्टमेंट, कार और ट्यूशन फीस मिले थे।

Edited By: Mahen Khanna

स्वर्णिम भारत न्यूज़ फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट

\\\"स्वर्णिम
+91 120 4319808|9470846577

स्वर्णिम भारत न्यूज़ हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.

मनोज शर्मा

मनोज शर्मा (जन्म 1968) स्वर्णिम भारत के संस्थापक-प्रकाशक , प्रधान संपादक और मेन्टम सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Laptops | Up to 40% off

अगली खबर

सनातन धर्म पर विवाद : टूटे आईने में सही शक्ल नहीं दिखती

Hindu Dharma and Sanatan Dharma: सच में आज की तारीख में स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekananda) से उद्भट विद्वान सनातन (Sanatan) को जानने वाला भारत ही नहीं, शायद विश्व में कोई दूसरा नहीं है। हमारा सनात

आपके पसंद का न्यूज

Subscribe US Now