Heatwave in India: गर्मी में अधिक पानी पीना भी हो सकता है हानिकारक, जानिए क्या कहते हैं एक्सपर्ट

धधकती गर्मी लोगों को परेशान कर रही है। देश के कई शहरों में तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के पार जा चुका है। राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र जैसे राज्यों में गर्मी अपने चरम पर है, जिस कारण लो

4 1 23
Read Time5 Minute, 17 Second

धधकती गर्मी लोगों को परेशान कर रही है। देश के कई शहरों में तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के पार जा चुका है। राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र जैसे राज्यों में गर्मी अपने चरम पर है, जिस कारण लोगों का घर से बाहर निकलना भी मुश्किल हो चुका है। हीटवेव की समस्‍या के कारण लोगों की तबीयत बिगड़ने का खतरा भी अधिक है। ऐसे में लोगों के लिए ठंडा पानी थोड़ा राहत देती है, लेकिन एक्‍सपर्ट का मानना है कि गर्मी में अधिक पानी पीना भी हानिकारक हो सकता है।

इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल के वरिष्ठ सलाहकार डॉ सुरनजीत चटर्जी एक्‍सप्रेस से बात करते हुए कहते हैं कि इस गर्मी के दौरान लोगों को विशेष ध्‍यान देना चाहिए। खासकर इस मौसम में बच्चे और बुजुर्ग सबसे अधिक असुरक्षित हैं। गर्मी से होने वाली बीमारियों और उसके बचाव के बारे में बात करते हुए कहते हैं कि ज्यादातर गर्मी से थकावट के मामले आते हैं, जहां लोग दिन में बाहर निकलने के बाद बेहद सुस्ती महसूस करते हैं।

गर्मी में होने वाली बीमारियां
वहीं उच्च तापमान से हीट स्ट्रोक भी हो सकता है, जहां शरीर 40 डिग्री सेल्सियस (104 डिग्री फ़ारेनहाइट) से अधिक गर्म हो जाता है। इस कारण अंगों और न्यूरोलॉजिकल डिसफंक्शन को नुकसान होता है। इसके परिणामस्वरूप बेहोशी, चकत्ते आदि हो सकते हैं। लोगों को इससे बचने के लिए अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रहना चाहिए, खासकर जब गर्मी में बाहर हों।

क्‍या करना चाहिए
हाइड्रेशन पानी के रूप में या इलेक्ट्रोलाइट्स के साथ कुछ भी हो सकता है, जैसे शिकंजी। इसके अलावा, प्यास ही इस बात का एकमात्र अच्छा संकेतक नहीं है कि आपको अधिक तरल पदार्थ लेने की आवश्यकता है या नहीं। इसलिए लोगों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि वे कितना पानी पी रहे हैं। इसके अलावा, इतनी गर्मी में लोगों को गहरे रंग, टाइट फिटिंग, सिंथेटिक कपड़े नहीं पहनने चाहिए। हल्के रंग के सूती कपड़े सबसे अच्छे होते हैं। सिर ढकने से भी मदद मिलती है। जहां तक ​​हो सके, लोगों को अत्यधिक गर्म घंटों के दौरान घर के अंदर ही रहना चाहिए।

हमें कितना पानी या तरल पदार्थ का सेवन करना चाहिए? और, क्या लोग इसे ज़्यादा कर सकते हैं?
पानी की मात्रा व्यक्ति के स्वास्थ्य पर निर्भर करती है। लोगों को हर 20 मिनट में पानी पीने की बात करते सुना है। ऐसा नहीं है कि यह कैसे काम करता है। एक स्वस्थ, युवा व्यक्ति को कहीं भी 2.5 से 3 लीटर पानी पीना चाहिए। वहीं अगर वे धूप में बाहर हैं तो अतिरिक्त 0.5 से 1 लीटर पानी का सेवन कर सकते हैं। लेकिन इससे अधिक पानी पीने से इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन भी हो सकता है, जो समस्याओं का कारण बन सकता है।

ज्‍यादा पानी का सेवन इन लोगों के लिए हानिकारक
वहीं गुर्दे या हृदय रोग वाले व्‍यक्तियों को पानी अधिक मात्रा में नहीं लेना चाहिए क्योंकि इससे पैरों, पेट और छाती में द्रव जमा हो सकता है, जिससे सांस लेने में कठिनाई हो सकती है। ऐसी पुरानी स्थिति वाले लोगों को दिन भर में कहीं भी 1 से 1.5 लीटर पानी पीना पड़ता है। हालांकि वे चिकित्‍सक से सलाह के बाद भी पानी का सेवन कर सकते हैं।

इन लोगों को नहीं लेना चाहिए ओआरएस घोल
जब लोग धूप में बाहर हों तो इलेक्ट्रोलाइट से भरपूर तरल पदार्थ लेना एक बेहतर विकल्प है। एक स्वस्थ व्यक्ति के लिए लगभग दो से तीन गिलास शिकंजी कोई समस्या नहीं होगी। फिर, किसी भी सहवर्ती रोग वाले लोगों को इस बात पर नज़र रखनी चाहिए कि वे क्या खा रहे हैं, उदाहरण के लिए, मधुमेह रोगियों को ओआरएस के घोल से बचना चाहिए क्योंकि उनमें चीनी की मात्रा अधिक होती है।

इस मौसम में कौन सा वर्ग सबसे ज्यादा असुरक्षित है?
5 साल से कम उम्र के बच्चे और 65 साल से ऊपर के लोग गर्मी के प्रभाव के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं। उन्हें गर्म घंटों के दौरान बाहर निकलने से बचना चाहिए और यदि उन्हें अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रहना चाहिए। हालांकि, युवा, स्वस्थ लोग भी पूरी तरह से सुरक्षित नहीं हैं। इसके अलावा, हृदय रोग, मधुमेह, या थायरॉयड जैसी सहवर्ती बीमारियों के साथ रहने वाले किसी भी व्यक्ति को सूर्य के संपर्क के प्रभाव को अधिक महसूस होने की संभावना है।

क्या इस मौसम में लोगों को व्यायाम करना चाहिए?
व्यायाम कोई समस्या नहीं है; गर्म होने पर व्यायाम करना। अगर लोग टहलने या जॉगिंग के लिए बाहर जाना चाहते हैं, तो उन्हें या तो सुबह जल्दी 5-6 बजे के बीच या शाम को 7 बजे के बाद करना चाहिए। लोगों को सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे के बीच कोई भी शारीरिक गतिविधि नहीं करनी चाहिए।

\\\"स्वर्णिम
+91 120 4319808|9470846577

स्वर्णिम भारत न्यूज़ हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.

मनोज शर्मा

मनोज शर्मा (जन्म 1968) स्वर्णिम भारत के संस्थापक-प्रकाशक , प्रधान संपादक और मेन्टम सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Laptops | Up to 40% off

अगली खबर

TATA Motors अमेरिका की कंपनी फोर्ड के प्‍लांट का करेगी अधिग्रहण, कैबिनेट से मिली मंजूरी

टाटा मोटर्स को गुजरात के साणंद स्थित ऑटो निर्माता अमेरिकन कंपनी फोर्ड प्‍लांट का अधिग्रहण करने की मंजूरी मिल चुकी है। इस सप्‍ताह गुजरात कैबिनेट ने सौदे को आगे बढ़ाने वाले प्रस्‍ताव को मंजूरी दे दी ह

आपके पसंद का न्यूज

Subscribe US Now