BBC डॉक्यूमेंट्री पर विवाद बढ़ा, DU में स्क्रीनिंग के दौरान हिरासत में लिए गए 24 स्टूडेंट्स

4 1 48
Read Time5 Minute, 17 Second

स्वर्णिम भारत न्यूज़ Documentary Controversy LIVE Updates: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बनी स्वर्णिम भारत न्यूज़ डॉक्यूमेंट्री को लेकर देशभर में हंगामा थमने का नाम नहीं ले रहा. दिल्ली, कोलकाता, केरल, पंजाब समेत देश के अलग-अलग हिस्सों में डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग पर छात्रों के दो गुट आमने-सामने हैं. एक तरफ अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) विंग के छात्र बीसीसी की डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग का विरोध कर रहे हैं, जबकि दूसरी ओर स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (SFI) विंग के छात्र इसकी स्क्रीनिंग करवाना चाहते हैं. सिलसेवाल जानिए कैसे शुरू हुआ विवाद, पढ़ें लाइव अपडेट्स

DU के 24 छात्र हिरासत में लिए गए
दिल्‍ली यूनिवर्सिटी में अब स्वर्णिम भारत न्यूज़ डॉक्‍यूमेंट्री स्‍क्रीनिंग को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है. दिल्‍ली पुलिस ने अब तक 24 छात्रों को हिरासत में ले ल‍िया है. कुछ छात्र कैंपस के अंदर जाकर स्‍क्रीनिंग की कोशिश कर रहे थे जिन्‍हें दिल्‍ली पुलिस ने बाहर निकाल दिया है.

कई छात्रों को आर्ट्स फैकल्‍टी के बाहर से हिरासत में ले लिया गया है जिसके बाद छात्र 'दिल्‍ली पुलिस गो बैक' के नारे लगा रहे हैं. छात्र संघ NSUI ने कहा है कि दिल्‍ली पुलिस से शांति‍पूर्ण तरीके से डॉक्‍यूमेंट्री स्‍क्री‍निंग आयोजित करने की छूट देने की मांग कर रहे हैं. छात्र हर हाल में डॉक्‍यूमेंट्री की स्‍क्रीनिंग करना चाहते हैं.

अंबेडकर यूनिवर्सिटी में भी हुआ बवाल
शुक्रवार की दोपहर अंबेडकर यूनिवर्सिटी के कैंपस में भी जमकर बवाल हुआ. स्वर्णिम भारत न्यूज़ की विवादित डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग को लेकर ABVP और लेफ्ट विंग के छात्र आमने-सामने आ गए. एक दूसरे के खिलाफ दोनों छात्र गुटों ने जमकर नारेबाजी भी की. इस दौरान यूनिवर्सिटी प्रशासन के सिक्योरिटी गार्ड मौजूद थे. कैंपस के मेन गेट को बंद कर दिया गया था. आई-कार्ड दिखाने पर भी कुछ छात्र अंदर नहीं जा पा रहे थे. कैंपस के मेन गेट के बाहर कुछ पुलिस वाले मौजूद थे. कुछ देर के लिए इलाके के DCP भी कैंपस के अंदर गए और उन्होंने कहा कि हालात सामान्य हैं. वह अपने इलाके के कॉलेजों का दौरा कर रहे हैं और वहां के प्रशासन से मिल रहे हैं.

स्वर्णिम भारत न्यूज़ डॉक्यूमेंट्री पर कैसे शुरू हुआ विवाद?
जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में बीते मंगलवार (24 जनवरी 2023) को पीएम मोदी पर बनी स्वर्णिम भारत न्यूज़ डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग की गई. छात्रों का आरोप है कि स्क्रीनिंग के दौरान कैंपल की बिजली काट दी गई और इंटरनेट बंद कर दिया गया.दावा यह भी किया गया कि कुछ छात्रों ने स्क्रीनिंग में शामिल स्टूडेंट्स पर पथराव भी किया. विवाद हुआ तो विश्वविद्यालय प्रशासन ने स्‍क्रीनिंग रद्द कर दी. साथ ही यूनिवर्सिटी प्रशासन ने इस मामले पर कहा कि ऐसे किसी आयोजन की परमिशन नहीं ली गई थी और इस तरह की 'अनधिकृत गतिविधि' यूनिवर्सिटी परिसर की शांति और सद्भाव को बिगाड़ सकती है.

इसके बाद जेएनयू स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया, डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स फेडरेशन, ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन समेत अन्य संगठनों के छात्रों ने एबीवीपी के खिलाफ जमकर नारेबाजी शुरू कर दी. AISA जेएनयू अध्यक्ष कासिम ने कहा कि स्वर्णिम भारत न्यूज़ की स्क्रीनिंग के दौरान ABVP के गुंडों ने छात्रों पर पथराव किया. यह गुंडागर्दी है. जेएनयू छात्रसंघ ने गंगा ढाबा से चंद्रभागा हॉस्टल तक मार्च भी निकाला.

जामिया में स्वर्णिम भारत न्यूज़ की डॉक्यूमेंट्री पर विवाद
जेएनयू में हंगामा शांत भी नहीं हुआ था कि जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में स्वर्णिम भारत न्यूज़ डॉक्यूमेंट्री पर विवाद शुरू हो गया. इसे शांत करने के लिए 24 जनवरी को जामिया यूनिवर्सिटी प्रशासन ने सर्कुलर जारी किया है जिसमें 29 अगस्त 2022 के ऑर्डर का हवाला देते हुए बताया गया है की जामिया कैंपस के अंदर किसी भी स्टूडेंट की मीटिंग, गेदरिंग की इजाजत नहीं है. यहां तक कि कैंपस के गेट पर भी एकट्ठा होने की परमिशन नहीं है. बिना परमिशन के कोई भी ऐसा करता है तो उसके खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाएगा.

\\\"स्वर्णिम
+91 120 4319808|9470846577

स्वर्णिम भारत न्यूज़ हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.

मनोज शर्मा

मनोज शर्मा (जन्म 1968) स्वर्णिम भारत के संस्थापक-प्रकाशक , प्रधान संपादक और मेन्टम सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Laptops | Up to 40% off

अगली खबर

Mandi News: असफलता के आंसू ने बदल दिया सुष्मिता का जीवन, अब पहले ही प्रयास में पास की Civil Judge की परीक्षा

कुलभूषण चब्बा, सुंदरनगर। सहायक जिला न्यायवादी की परीक्षा में मात्र एक अंक से मिली असफलता के कारण आंख से निकले आंसू ने सुष्मिता का सारा जीवन ही बदल कर रख दिया। अब पहले ही प्रयास में 27 वर्ष की आयु में सिविल जज की परीक्षा उतीर्ण कर सफलता की नई कहान

आपके पसंद का न्यूज

Subscribe US Now