गाजा पर IDF का ट्रिपल अटैक, अमेरिकी NGO के 4 लोग मारे गए, मिजो महिला भी शामिल

4 1 23
Read Time5 Minute, 17 Second

इज़रायल और हमास के बीच युद्ध को करीब 6 महीने होने वाले हैं. लेकिन इसके थमने के आसार नजर नहीं आ रहे हैं. सोमवार को भी इजरायली सेना ने मध्य गाजा के दीर ​​अल-बलाह शहर में हमला किया. इसमें वर्ल्ड सेंट्रल किचन चैरिटी के चार अंतरराष्ट्रीय सहायता कर्मियों की दर्दनाक मौत हो गई. मरने वालों में ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया और पोलैंड के नागरिक शामिल हैं. इसमें एक मिजो महिला भी शामिल है, जिसके मां मिजोरम की रहने वाली हैं.

एक विदेशी कर्मचारी की शिनाख्त नहीं हो पाई है. मरने वालों में एक फिलिस्तीनी ड्राइवर भी है. वर्ल्ड सेंट्रल किचन चैरिटी एक अमेरिकी एनजीओ है. वो गाजा में जरूरतमंद लोगों के लिए खाद्य राहत और तैयार भोजन बांटता है. पिछले महीने तक इसने 175 दिनों में गाजा में 42 मिलियन से अधिक भोजन परोस चुका था. आईडीएफ ने टेलीग्राम के जरिए इस हादसे पर दुख जाहिर किया है, लेकिन जिम्मेदारी नहीं ली है. उच्च स्तरीय समीक्षा करने की बात कही है.

इजरायली हमले में मारी गई मिजो महिला का नाम लालजावमी फ्रैंककॉम है. वो वर्ल्ड सेंट्रल किचन (डब्ल्यूसीके) में वरिष्ठ प्रबंधक थी. उत्तरी गाजा के लोगों को राहत प्रदान करने के मिशन पर थीं. वो जब अपने काफिले के साथ यात्रा कर रही थीं, उसी वक्त आईडीएफ के हवाई हमले के दौरान आग की चपेट में आ गई. इसके बाद घटनास्थल पर ही उनकी मौत हो गई. उनकी मौत की ऑस्ट्रेलियाई प्रधान मंत्री ने निंदा की है. उन्होंने इसे पूरी तरह से अस्वीकार्य बताया है.

Advertisement

मृतिका के पिता ऑस्ट्रेलियाई और मां मिजोरम की रहने वाली हैं. उनकी मौत की सूचना मिलने पर उनके मां के घरवालों ने हैरान जताई है. लालज़ावमी के चचेरे भाई ने कहा, "इस खबर को सुनने के बाद हमारा दिल टूट गया है. वो दुनिया भर में लोगों के लिए उल्लेखनीय काम कर रही थी. हमें उस पर हमेशा बहुत गर्व रहेगा.'' इस इजरायली हवाई हमले में मिजो महिला के साथ वर्ल्ड सेंट्रल किचन से जुड़े चार अंतरराष्ट्रीय सहायता कर्मियों की मौत हो गई है.

दूसरी तरफ इजरायली सेना ने रफाह में भी जबरदस्त हमलाकर 6 लोगों को मौत की नींद सुला दिया. इसमें तीन बच्चे शामिल हैं. उनके परिजनों का भी रो-रोकर हाल बुरा है. वहीं सभी के शवों को अल नज्जर अस्पताल लाया गया. वहां उन्हें नमाजे जनाजा के बाद सुपर्द-ए-खाक कर दिया गया. इज़रायल के ट्रिपल अटैक का सिलसिला आगे भी जारी रहा. कतर के न्यूज चैनल अल-जजीरा पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है. नेतन्याहू ने आधी रात को संसद बुलाई और फिर कानून पारित कर चैनल को आतंकी चैनल करार दिया. इसकी जानकारी सोशल मीडिया प्लेटफार्म एक्स पर एक पोस्ट कर रोक लगाने की बात कही.

यह भी पढ़ें: गाजा में इजरायली सेना ने की एयरस्ट्राइक, खुफिया सुरंग तबाह, हमास का अहम ठिकाना नेस्तनाबूत

crime

बताते चलें कि गाजा में राहत सामग्री आने से रोक रहे इजरायल को अंतरराष्ट्रीय कोर्ट से तगड़ा झटका लगा है. संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष अदालत ने इजरायल को आदेश दिया है कि वो बिना किसी रुकावट के गाजा में राहत सामग्री और मेडिकल सहायता जाने दे. गाजा में खाद्य संकट को लेकर दक्षिण अफ्रीका ने इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ़ जस्टिस का दरवाजा खटखटाया था. इसके बाद ये फैसला आया है, जो कि खाद्य संकट से जूझ रहे फिलिस्तीनियों के लिए राहत भरी खबर हैं.

संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष अदालत ने इजरायल को आदेश दिया है कि वो बिना किसी रुकावट के गाज़ा में राहत सामग्री और मेडिकल सहायता जाने दे. गाजा में कुछ हफ़्तों के भीतर अकाल पड़ने की चेतावनी के बाद ये आदेश आया है. इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ़ जस्टिस ने गाजा में राहत सामग्री आने से रोकने जाने पर इजरायल की आलोचना भी की थी. इसके साथ ही कोर्ट ने कहा कि रफाह क्रसिंग पर राहत समाग्री से भरे ट्रकों को जाने दिया जाए.

Advertisement

इधर इजराइल ने राहत रोके जाने के आरोपों को 'आधारहीन' बताया है. न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक गाजा में खाद्य संकट को लेकर दक्षिण अफ़्रीका ने अंतरराष्ट्रीय न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था. इसके बाद ये आदेश आया है. इससे पहले दक्षिण अफ़्रीका गाजा में फिलिस्तीनियों के नरसंहार को लेकर भी इजरायल को इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ़ जस्टिस घसीट चुका है. पिछले साल अक्टूबर से ही इजरायल ने गाजा की घेराबंदी कर रखी है.

इसकी वजह से गाजा में खाद्य संकट पैदा हो गया है. संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के मुताबिक गाजा की 23 लाख की आबादी में से 80 फीसदी लोगों को दो वक्त का भोजन नहीं मिल पा रहा. यहां हालात इतने खराब है कि पर्याप्त मात्रा में भोजन और दवाईयां ना मिलने की वजह से बच्चे दम तोड़ रहे हैं. पिछले हफ्ते विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख डॉ. टेड्रोस ने दावा किया था कि गाजा में पांच साल से कम उम्र के 60 फीसदी बच्चे कुपोषित हो गए हैं.

\\\"स्वर्णिम
+91 120 4319808|9470846577

स्वर्णिम भारत न्यूज़ हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.

मनोज शर्मा

मनोज शर्मा (जन्म 1968) स्वर्णिम भारत के संस्थापक-प्रकाशक , प्रधान संपादक और मेन्टम सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Laptops | Up to 40% off

अगली खबर

PM Modi Gaya Purnia Visit Live : आज बिहार में पीएम मोदी की दो जनसभा, गया के गांधी मैदान में पहुंचने लगे लोग; सुरक्षा सख्त

स्वर्णिम भारत न्यूज़ टीम, पटना/गया/पूर्णिया।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की बिहार में आज दो जनसभाओं हैं। गया और पूर्णिया में उनकी जनसभाएं प्रस्तावित हैं। इससे पहले जमुई व नवादा में मोदी जनसभाएं कर चुके हैं। गया में पिछले दो चुनावों में मात खा चुके

आपके पसंद का न्यूज

Subscribe US Now