Rohini Acharya Education- MBBS कर चुकी हैं लालू की बेटी रोहिणी आचार्य, चुनाव लड़ने सिंगापुर से बिहार लौटीं

4 1 29
Read Time5 Minute, 17 Second

Rohini Acharya Education: बिहार के राजनीतिक गलियारों में रोहिणी आचार्य का नाम सुर्खियों में बना हुआ है.बिहार के राजनेता व राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की बेटी रोहिणीसियासी डेब्यू कर रहीहैं. रोहिणी आचार्य बिहार की सारण सीट से लोकसभा चुनाव लड़ने की तैयारी में हैं. उन्होंने आज यानी 2 अप्रैल से अपने जनसंपर्क अभियान का आगाज करने का ऐलान किया है.

लालू यादव की बेटी आज से चुनावी मैदान में उतर रही हैं. प्रचार अभियान शुरू करने से पहले रोहिणीअपने पिता लालू यादव, माता राबड़ी देवी और बहन मीसा भारती के साथ हरिहरनाथ मंदिर पहुंचीं हैं और विधि-विधान से पूजा-अर्चना की है. ऐसे में आइए जानते हैं कि सारण सेचुनाव लड़ने की तैयारी कर रहीं रोहिणी आचार्य कितनी पढ़ी-लिखी हैं.

पेशे से डॉक्टर हैं लालू यादव की छोटी बेटी

रोहिणी आचार्य राजनीति में उतरने जा रही हैं लेकिन पेशे से वह एक डॉक्टर हैं. साल 2022 में अपने पिता लालू यादव की तबीयत खराब होने पररोहिणी ने उन्हें किडनी देकर जीवनदान दिया था. रोहिणी ने अपनी स्कूली शिक्षा पटना से ही पूरी की है. बता दें कि रोहिणी का जन्म स्थान भी पटनाही है. स्कूली शिक्षा हासिल करने के बाद रोहिणी अपनी आगे की पढ़ाई के लिए शहर से बाहर गईं थीं.

Advertisement

स्कूली पढ़ाई खत्म करने के बाद रोहिणी ने जमशेदपुर के महात्मा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज से डॉक्टरी की डिग्री हासिल की . बता दें कि लालू यादव की बड़ी बेटी मीसा भारती ने भीयहीं सेडॉक्टरकी पढ़ाई पूरी की है.

साल 2002 में हुई थी रोहिणी की शादी

रोहिणी ने डॉक्टर की डिग्री हासिल की हुई हैऔर अब वह अपना राजनीतिक डेब्यूकरने जा रही हैं. साल 2002 में उनकी शादी समरेश सिंह से हो गई थी. समरेश सिंह पेशे से सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं, उस दौरानवह अमेरिका में जॉब किया करते थे. शादी के बाद रोहिणी कई सालों तकसिंगापुर में ही रही हैं और वह चुनाव लड़ने के लिए बिहार लौट चुकी हैं.

राजनीतिक डेब्यू पर क्या बोलीं रोहिणी आचार्य

आजतक से खासबातचीत मेंरोहिणी ने कहा कि सिंगापुर से ही हम सबके नाक में दम किए हुए थे. अब सारण की धरती पर आ गए हैं तो सारण की पूरी जनता मेरा साथ देगी. रोहिणी आचार्य ने दावा किया कि सारण की जनता इस बार बदलाव के लिए पूरी तरह से तैयार है. उन्होंने कहा कि माताएं, बहनें और बुजुर्ग, सभी तैयार हैं. चुनावी पिच पर उतरने को तैयार लालू यादव की बेटी ने यह भी कहा कि हरिहरनाथ मंदिर में अच्छी पूजा हुई.

सारण सीट ने लालू यादव लड़ चुके हैं चुनाव

बता दें कि बीजेपी ने सारण सीट पर अपने मौजूदा सांसद और कद्दावर पार्टी नेता राजीव प्रताप रूडी को ही फिर से उम्मीदवार बनाया है. सारण सीट पर लालू परिवार का बेहद प्रभाव माना जाता है. इसी सीट (तब छपरा) से साल 1977 में लालू यादव पहली बार जीतकर संसद पहुंचे थे. इस सीट पर 2004 में लालू यादव ने रूडी को हरा दिया था और सारण से तीसरी बार संसद बने थे. 2009 में भी लालू यादव इस सीट से चुनाव जीत गए थे. इसके बाद 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव में राजीव प्रताप रुडी ने इस सीट पर अपनीबादशाहत कायम रखी है.

\\\"स्वर्णिम
+91 120 4319808|9470846577

स्वर्णिम भारत न्यूज़ हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.

मनोज शर्मा

मनोज शर्मा (जन्म 1968) स्वर्णिम भारत के संस्थापक-प्रकाशक , प्रधान संपादक और मेन्टम सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Laptops | Up to 40% off

अगली खबर

Gujarat: गुजरात में नाराज क्षत्रियों को मनाने में जुटी सरकार, पुरुषोत्तम रुपाला के बयान से कैसे घिरी BJP?

राज्य ब्यूरो, अहमदाबाद। गुजरात के राजकोट में क्षत्रिय अस्मिता महासम्मेलन के बाद अब राजपूत समाज की संस्थाओं की संकलन समिति व करणी सेना में विवाद उत्पन्न हो गया है। करणी सेना महिला मोर्चा की अध्यक्ष पदमिनी बा ने कहा कि संकलन समिति भाजपा के साथ मिलक

आपके पसंद का न्यूज

Subscribe US Now