14 प्रमुख शहरों में जनवरी-मार्च के दौरान बिना बिके घरों की संख्या छह प्रतिशत घटी, अच्छी बिक्री का मिला लाभ

नई दिल्ली, पीटीआई। जनवरी-मार्च 2023 के दौरान देश के 14 प्रमुख शहरों में बिना बिके घरों की संख्या में छह प्रतिशत की कमी आई है। डाटा एनालिटिक फर्म प्रापइक्विटी के अनुसार, बीती तिमाही में देश में बिना बिके घरों की संख्या घटकर 5,17,879 इकाई र

4 1 393
Read Time5 Minute, 17 Second

नई दिल्ली, पीटीआई। जनवरी-मार्च 2023 के दौरान देश के 14 प्रमुख शहरों में बिना बिके घरों की संख्या में छह प्रतिशत की कमी आई है। डाटा एनालिटिक फर्म प्रापइक्विटी के अनुसार, बीती तिमाही में देश में बिना बिके घरों की संख्या घटकर 5,17,879 इकाई रह गई है। पिछले वर्ष समान तिमाही में 14 प्रमुख शहरों में बिना बिके घरों की संख्या 5,48,217 इकाई थी।

डाटा के अनुसार, 2023 की पहली तिमाही में 1,23,938 आवासीय इकाइयों की बिक्री हुई है। 2022 की पहली तिमाही में 93,600 इकाइयों की बिक्री हुई थी। प्रापइक्विटी के संस्थापक और प्रबंध निदेशक समीर जसूजा का कहना है कि 2023 की पहली तिमाही में आवासीय बाजार में मजबूत वृद्धि रही है। पिछले वर्ष से जारी रिकवरी के चलते बाजार में पुनरुत्थान हो रहा है। पिछली तिमाही में नए आवासों की लांचिंग के मुकाबले बिक्री में 32 प्रतिशत की वृद्धि रही है।

जसूजा के अनुसार, जनवरी-मार्च के दौरान लांचिंग के मुकाबले बिक्री में वृद्धि रहना आवासीय बाजार के लिए अच्छे संकेत हैं। डाटा के अनुसार, दिल्ली में बिना बिके घरों की संख्या लगभग स्थिर रहते हुए 793 इकाई है। फरीदाबाद में इनकी संख्या 17 प्रतिशत घटकर 1,110 इकाई से 920 इकाई रह गई है। इसी तरह नोएडा में बिना बिके घरों की संख्या सात प्रतिशत घटकर 7,371 से 6,843 इकाई पर आ गई है।

डाटा के मुताबिक, गाजियाबाद में बिना बिके घरों की संख्या 12,614 से घटकर 11,542 इकाई रह गई है। ग्रेटर नोएडा में यह संख्या 25,241 से घटकर 23,865 पर आ गई है। गुरुग्राम और चेन्नई में बिना बिके घरों की संख्या क्रमश: 17 और छह प्रतिशत बढ़ी है।

अन्य प्रमुख शहरों में गिरावट

  • कोलकाता-11 प्रतिशत
  • नवी मुंबई- 09 प्रतिशत
  • मुंबई- 08 प्रतिशत
  • ठाणे-04 प्रतिशत
  • पुणे- 11 प्रतिशत
  • बेंगलुरु- 08 प्रतिशत
  • हैदराबाद-02 प्रतिशत

swarnimbharatnews

Edited By: Sonu Gupta

\\\"स्वर्णिम
+91 120 4319808|9470846577

स्वर्णिम भारत न्यूज़ हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.

मनोज शर्मा

मनोज शर्मा (जन्म 1968) स्वर्णिम भारत के संस्थापक-प्रकाशक , प्रधान संपादक और मेन्टम सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Laptops | Up to 40% off

अगली खबर

Gujarat: गुजरात में नाराज क्षत्रियों को मनाने में जुटी सरकार, पुरुषोत्तम रुपाला के बयान से कैसे घिरी BJP?

राज्य ब्यूरो, अहमदाबाद। गुजरात के राजकोट में क्षत्रिय अस्मिता महासम्मेलन के बाद अब राजपूत समाज की संस्थाओं की संकलन समिति व करणी सेना में विवाद उत्पन्न हो गया है। करणी सेना महिला मोर्चा की अध्यक्ष पदमिनी बा ने कहा कि संकलन समिति भाजपा के साथ मिलक

आपके पसंद का न्यूज

Subscribe US Now