मणिपुर के जिरिबाम इलाकों में भड़की हिंसा, उपद्रवियों ने कई घरों में लगाई आग

4 1 20
Read Time5 Minute, 17 Second

मणिपुर में गुरुवार को एक व्यक्ति का शव पड़ा मिलने के बाद जिरिबाम इलाके मेंहिंसा भड़क गई है. पुलिस के सूत्रों के मुताबिक उपद्रवियों ने जिरिबाम इलाके में कई मैतेई समुदाय के रहने वाले लोगों के घरों को आग लगा दी है. इसके बाद सेमैतेई परिवार गांव से पयालन शुरू कर दिया है. साथ ही इलाके में हिंसा को रोकने के लिए सेना की तैनाती की गई है.

राज्य खुफिया सूत्रों का कहना है कि कूकी उपद्रवियों ने जिरीबाम के मैतेई गांव में हिंसा फैलाई है, जबकि दूसरी ओर कुकी समुदाय के एक व्हाट्सएप ग्रुप पर साझा किए गए एक वीडियो से पता चलता है कि कथित कुकी उग्रवादी जिरिबाम जिले के लमताई खुनौ नामक गांव से जा रही मैतेई आबादी पर करीब से नजर रख रहे हैं और लमताई खुनौ जिरिबाम में स्थित मैतेई समुदाय के गांव में घरों को जला रहे हैं. साथ ही राज्य ने हिंसा को केंद्रीय सुरक्षा बलों से मदद भी मांगी है.

हमलावरों ने मैतेई समुदाय के घरों में लगाई आग

वहीं, सूत्रों का कहना है कि भारी हथियारों के साथ कुकी समुदाय के हमलावरों द्वारा मैतेई के गांव में घरों को आग लगाते हुए देखा गया है.

इसके इतर मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि 18वीं लोकसभा चुनाव की घोषणा के बाद आचार संहिता लागू होने के बाद सभी लाइसेंसी हथियारों को जब्त कर लिया गया था. चुनाव खत्म होने के बाद स्थानीय लोगों ने जिरिबाम पुलिस थाने पर धावा बोल दिया था. जिससे तनावपूर्ण हो गई थी. इसके बाद जरूरी प्रक्रिया पूरी करने हथियारों को लौटा दिया गया है.

Advertisement

पिछले साल भड़की थी हिंसा

आपको बता दें कि पिछले साल 3 मई को मैतेई समुदाय की अनुसूचित जनजाति (एसटी) दर्जे की मांग के विरोध में पहाड़ी जिलों में आयोजित 'आदिवासी एकजुटता मार्च' के बाद भड़की जातीय हिंसा के बाद मणिपुर में सैंकड़ों से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं. मणिपुर की आबादी में मैतेई लोगों की संख्या लगभग 53 प्रतिशत है और वे ज्यादातर इम्फाल घाटी में रहते हैं, जबकि आदिवासी, जिनमें नागा और कुकी शामिल हैं, 40 प्रतिशत हैं और मुख्य रूप से पहाड़ी जिलों में रहते हैं.

\\\"स्वर्णिम
+91 120 4319808|9470846577

स्वर्णिम भारत न्यूज़ हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.

मनोज शर्मा

मनोज शर्मा (जन्म 1968) स्वर्णिम भारत के संस्थापक-प्रकाशक , प्रधान संपादक और मेन्टम सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Laptops | Up to 40% off

अगली खबर

West Bengal: शिक्षक भर्ती घोटाले के खिलाफ आंदोलन रोकने का अपनाया ये कैसा तरीका? प्रदर्शनकारियों को ही दे डाली नौकरी

राज्य ब्यूरो, कोलकाता। बंगाल में शिक्षक भर्ती भ्रष्टाचार के खिलाफ लंबे समय से आंदोलन चल रहा है। आंदोलन को रोकने के लिए कुछ आंदोलनकारियों को स्कूल सेवा आयोग (एसएससी) द्वारा शिक्षक के रूप में नियुक्त कर दिया गया था। यह नियुक्ति कक्षा नौ से 12 तक के

आपके पसंद का न्यूज

Subscribe US Now