पेलोसी का दौरा

अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की स्पीकर नैंसी पेलोसी का ताइवान दौरा मामूली घटना नहीं है। देखा जाए तो चीन के भारी विरोध और धमकियों के बावजूद पेलोसी का ताइवान पहुंचना अमेरिका की चीन को खुली चुनौती है। जिस कड़ी सुरक्षा के बीच पेलोसी ताइवान पहुंचीं, वह असाधारण

आग से निकले सवाल

मध्यप्रदेश के जबलपुर शहर के एक निजी अस्पताल में सोमवार को लगी आग की घटना ने अस्पतालों में अग्नि सुरक्षा से जुड़े इंतजामों की पोल खोल दी है। इस हादसे में आठ लोगों की मौत बता रही है कि अगर अस्पताल में सुरक्षा संबंधी मानकों का पालन किया गया होता तो इतन

वित्त पर वित्तमंत्री

महंगाई के मुद्दे पर आखिरकार वित्तमंत्री ने सरकार का पक्ष रख दिया। सत्र के शुरू से ही विपक्ष इस पर चर्चा की मांग करता आ रहा था, मगर तबीयत ठीक न होने की वजह से वित्तमंत्री सदन में उपस्थित नहीं रह सकी थीं। अब वे आईं तो विपक्ष की इस आशंका को निराधार बत

बढ़ती चिंता

भारत में मंकीपाक्स से हुई पहली मौत के बाद चिंता बढ़ना लाजिमी है। यह मामला भले केरल का हो, लेकिन जिस तरह अब दूसरे राज्यों से भी इसके संदिग्ध मामले सामने आने की खबरें आ रही हैं, उससे तो इस बात का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है कि कहीं न कहीं दबे पांव यह ब

नया पैमाना

आखिरकार दिल्ली सरकार शराब बिक्री संबंधी अपनी पुरानी नीति पर लौट आई। हालांकि इसे देर आयद ही कहा जा सकता है। पिछले साल उसने दुकानों के आबंटन और बिक्री आदि में धांधली का हवाला देते हुए नई आबकारी नीति लागू की थी। उसका दावा था कि इस फैसले से शराब की बिक

प्रवर्तन की पहुंच

धनशोधन मामलों में प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी की तेज होती गतिविधियों से भ्रष्टाचार में लिप्त, खासकर विपक्षी दलों के नेता खासे आहत थे। इसे लेकर उन्होंने अलग-अलग अदालतों में चुनौती दे रखी थी। सर्वोच्च न्यायालय उन सभी दो सौ बयालीस याचिकाओं पर एक जगह सु

बढ़ता गतिरोध

इस बार जब से संसद का मानसून सत्र शुरू हुआ है, कोई दिन ऐसा नहीं गुजरा जब लोकसभा और राज्यसभा हंगामे की भेंट न चढ़ी हो। हफ्ते भर से ज्यादा हो चुका है लेकिन संसद के दोनों सदनों में शायद ही कोई सार्थक काम हुआ हो। जैसा कि देखने-पढ़ने को मिल रहा है, सुबह का

ठगी का जाल

ठगी का दायरा कितना व्यापक और मुनाफेवाला होता जा रहा है, आम लोगों को तो इसकी कल्पना भी शायद ही हो। अभी तक तो यही सुनने में आता रहा कि नौकरी लगवाने, परीक्षा में पास करवाने, विवादित मामले सुलझाने या अन्य काम करवाने के नाम पर ही ठगी होती है। पुराने जमा

मंकीपाक्स का खतरा

भारत में मंकीपाक्स संक्रमण के अभी भले ही चार मामले मिले हों, लेकिन इसे लेकर एक चिंता और डर पैदा होना लाजिमी है। तीन मामले केरल और एक दिल्ली में मिला है। उत्तर प्रदेश के औरैया में भी एक महिला में इसके लक्षण पाए जाने की खबरें हैं। इसका मतलब है कि अब

शपथ का संकेत

जनतंत्र में प्रतीकों का अपना महत्त्व होता है। राष्ट्रपति पद पर द्रौपदी मुर्मू की जीत भी एक प्रतीक है। आदिवासी समुदाय से वे पहली महिला हैं, जो देश के शीर्ष पद पर पहुंची हैं। सोमवार को उन्होंने अपना कार्यभार भी संभाल लिया। इस तरह उनसे स्वाभाविक ही आद

भ्रष्टाचार का दलदल

पश्चिम बंगाल में उद्योग मंत्री पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी बता रही है कि ममता बनर्जी भ्रष्टाचार मुक्त शासन के कितने ही दावे क्यों न करें, लेकिन उनके वरिष्ठ मंत्री भी भ्रष्टाचार के गंभीर आरोपों के घेरे में हैं। शिक्षक भर्ती घोटाले की जांच के सिलसिले म

टकराव का पैमाना

एक बार फिर दिल्ली सरकार और उपराज्यपाल आमने-सामने हैं। इस बार दिल्ली सरकार पर आरोप है कि उसने आबकारी नीति में बदलाव कर गलत तरीके से लोगों को शराब के ठेके दिए और उन्हें अनुचित लाभ पहुंचाया। इस तरह सरकार को भारी राजकोषीय घाटा हुआ। उपराज्यपाल ने मुख्य

कमजोरी का अर्थ

भारतीय उद्योग संगठन फिक्की ने चालू वित्त वर्ष की विकास दर के अनुमान को घटा कर सात फीसद कर दिया है। उसने यह भी कहा है कि अगर कोई अन्य व्यवधान आया तो यह दर साढ़े छह फीसद भी रह सकती है। हालांकि अप्रैल में फिक्की ने इस वर्ष विकास दर 7.4 प्रतिशत रहने का

चुनौतियों के बीच

श्रीलंका के नए राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे ने दिनेश गुणवर्धने को प्रधानमंत्री नियुक्त किया है। सत्रह नए मंत्री भी बनाए गए हैं। माना जाना चाहिए कि अब वहां राजनीतिक अस्थिरता का दौर तो खत्म होगा। सत्ता में यह बदलाव ऐसे कठिन वक्त में हुआ है जब देश आर्

नाराजगी के बावजूद

उत्तर प्रदेश सरकार के दो मंत्रियों ने भ्रष्टाचार और अपने अफसरों के रवैए को लेकर सवाल उठाए, तो स्वाभाविक रूप से सनसनी फैल गई। जलशक्ति मंत्री दिनेश खटीक तो अपने मातहत अधिकारियों के व्यवहार से इतने आहत थे कि उन्होंने अपना इस्तीफा तक मुख्यमंत्री को सौं

जीत के मायने

देश के पंद्रहवें राष्ट्रपति के लिए हुए चुनाव में तस्वीर साफ हो चुकी है और अब द्रौपदी मुर्मू इस पद पर चुने जाने के साथ ही प्रथम नागरिक के तौर पर जानी जाएंगी। मतों की गिनती के बाद जैसा नतीजा सामने आया, उससे साफ है कि द्रौपदी मुर्मू का पक्ष हर स्तर पर

मुठभेड़ का मोर्चा

पंजाब में मशहूर गायक से अभिनेता और राजनेता बने सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल कई आरोपियों को तो गिरफ्तार कर लिया गया था, मगर दो अन्य मुख्य अपराधी फरार चल रहे थे। बुधवार को अटारी सीमा के पास एक गांव में खबर मिलने पर जब पुलिस ने धावा बोला तब कुछ

मुद्दा महंगाई का

महंगाई को लेकर दो दिन से संसद के दोनों सदनों में कार्यवाही ठप रही। विपक्ष सरकार से महंगाई पर चर्चा करवाने की मांग कर रहा है। ऐसा नहीं कि विपक्ष ने यह मांग कोई अचानक उठा दी। पहले से ही लग रहा था कि संसद सत्र शुरू होते ही जिन मुद्दों को लेकर विपक्ष स

महामारी के विरुद्ध

यह निस्संदेह सरकार की बड़ी उपलब्धि है कि दो सौ करोड़ से ऊपर लोगों को कोरोनारोधी टीके की खुराक लगा दी गई। चीन के बाद भारत दूसरा देश है, जिसने इतने कम दिनों में यह बड़ी कामयाबी हासिल की है। नब्बे फीसद लोगों का पूर्ण टीकाकरण हो चुका है। इसके साथ ही जिन ल

सेहत का मोर्चा

कोरोना महामारी ने पूरी दुनिया की व्यवस्थाओं के सामने गंभीर चुनौतियां पेश की हैं। उनमें एक बड़ी समस्या स्वास्थ्य के मोर्चे पर भी पैदा हुई है। खासकर विकासशील देशों में, जहां लंबे समय से चली आ रही कुछ बीमारियों को जड़ से समाप्त करने के लिए योजनाएं चलाई

बोल कुबोल

संसद की अपनी गरिमा है, इसलिए उसकी कार्यवाही के दौरान सांसदों से भी अपेक्षा की जाती है कि वे मर्यादित भाषा का प्रयोग करें। मगर विचित्र है कि कुछ सदस्य कई बार इस तकाजे का ध्यान नहीं रखते, जिसकी वजह से उन्हें कार्यवाही के दौरान पीठासीन अधिकारी को टोकन

जायज नाजायज

कुछ दिनों पहले विभिन्न शहरों में बुलडोजर से मकान ढहाने को लेकर सर्वोच्च न्यायालय में गुहार लगाई गई थी कि इस तरह लोगों के घर तोड़ने पर रोक लगाई जाए। इस पर अदालत ने कहा कि वह ऐसा कोई आदेश नहीं दे सकती, जिससे स्थानीय निकायों के अधिकारों में कटौती होती

आपातकाल के सहारे

श्रीलंका फिलहाल जिस तरह के उथल-पुथल से गुजर रहा है, उससे समझा जा सकता है कि वहां की सत्ता कैसे अदूरदर्शी नेताओं के हाथ में कैद रही। उनकी लगातार अहं में जकड़ी जिद और मनमानी नीतियों का ही नतीजा है कि देश की आम जनता को वहां की सरकार के खिलाफ बगावत का ब

हकीकत में महंगाई

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) ने जून महीने के खुदरा महंगाई के आंकड़े जारी कर दिए हैं। मई के मुकाबले जून में महंगाई की दर थोड़ी कम हुई। मई में महंगाई दर 7.04 फीसद थी जो जून में नाममात्र की गिरावट से 7.01 फीसद पर आ गई। आंकड़ों के लिहाज से देखा जा

जुर्म और सजा

हमारे देश में बहुत सारे ऐसे लोग जेलों में बंद हैं, जिन पर जमानती जुर्म की धाराएं लगी हैं, पर मुकदमा दायर करने वाली इकाइयों के एतराज की वजह से उन्हें जमानत नहीं मिल पाती। बहुत सारे विधि विशेषज्ञ और मानवाधिकार कार्यकर्ता लंबे समय से मांग करते रहे हैं

आबादी की सीमा

संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष ने दुनिया की बढ़ती आबादी को लेकर ताजा आंकड़े जारी कर दिए हैं। खास बात यह है कि चार महीने बाद यानी पंद्रह नवंबर को दुनिया की आबादी का आंकड़ा आठ अरब छू जाने का अनुमान है। सात अरब का आंकड़ा साल 2011 में आया था। रिपोर्ट में यह

फूटता गुस्सा

श्रीलंका में जनता का गुस्सा अचानक नहीं फूटा। आर्थिक संकट से जूझते देश में जिस तरह की राजनीतिक अस्थिरता भी बनी हुई है, उसमें आज नहीं तो कल यह होना ही था। गुस्साई भीड़ जिस तरह से राष्ट्रपति निवास में घुस गई, उससे साफ है कि जनता अब उन नेताओं को बर्दाश्

हिंसा का दायरा

जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे की हत्या एक बेहद दुखद घटना है। इसे एक तरह की चेतावनी के तौर पर देखा जा सकता है कि वैश्विक स्तर पर हिंसा करने वाली ताकतें किन-किन शक्लों में पल रही हैं और वे मौका मिलते ही किस तरह हमला बोल देती हैं।

शुर

दुरंगी चाल

अंतरराष्ट्रीय मंचों और व्यावहारिक अर्थों में किस कदर चीन का व्यवहार अलग होता है, यह किसी से छिपा नहीं है। इसका ताजा उदाहरण गुरुवार को इंडोनेशिया के बाली में चल रहे जी-बीस देशों की बैठक के दौरान देखने को मिला। वहां भारत और चीन के विदेशमंत्री अलग से

भुखमरी का दायरा

इससे बड़ी विडंबना और क्या होगी कि जिस दौर में दुनिया विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में विकास और प्रयोग की नई ऊंचाइयां छू रही है, उसी में समूचे विश्व में भुखमरी के हालात का सामना करने वाले लोगों की तादाद में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। यों अमूमन हर साल इस

संकट से सबक

सरकार की गलत नीतियां, आर्थिक कुप्रबंधन और सत्ता में परिवारवाद की बीमारी एक खुशहाल देश को कैसे कंगाल बना देती है, इसे आज श्रीलंका में साफ तौर पर देखा जा सकता है। इस मुल्क को लेकर आए दिन जैसी खबरें आ रही हैं, वे भयावह तस्वीर पेश करती हैं। महंगाई और ब

खतरे की उड़ान

उड़ान के बाद विमान किस जोखिम की स्थिति में होता है, इसका अंदाजा सभी को होता है। लेकिन अगर अठारह दिनों में एक कंपनी के विमानों में आठ बार आई तकनीकी खराबी के मामले ने इस बात को लेकर व्यापक चिंता पैदा की है कि क्या हवाई यात्राएं पूरी तरह सुरक्षित हैं!

वसूली पर लगाम

केंद्रीय उपभोक्ता संरक्षण प्राधिकरण (सीसीपीए) ने स्पष्ट निर्देश दिया है कि कोई भी होटल या रेस्तरां खान-पान के बिल पर सेवा शुल्क नहीं वसूलेगा। अगर वह ऐसा करता है तो यह गैरकानूनी होगा और ऐसा करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। प्राधिकरण का यह फैस

सुविधा पर सहमति

सत्ता पक्ष और विपक्ष में अक्सर छत्तीस का संबंध देखा जाता है। सरकार कोई भी फैसला करे, तो कई बार बेवजह भी विपक्ष विरोध में उठ खड़ा होता है। मगर जब बात प्रतिनिधियों के वेतन, भत्ते और सुविधाओं की आती है, तो उसमें सारे मतभेद हवा हो जाते हैं। सारे एक मत स

सबक का वक्त

हैदराबाद में भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई राजनीतिक दलों के अस्तित्व संकट को लेकर जो कहा, वह उचित ही है। यह एक ऐसा प्रासंगिक और गंभीर मुद्दा है जिस पर सभी राजनीतिक दलों को गहराई से मंथन करने की जरूरत है। अगर आज

आलोचना का विवेक

इंटरनेट आधारित सामाजिक मंचों पर मनमाने बयानों, अविवेकपूर्ण, अशोभन और भड़काऊ टिप्पणियों आदि को लेकर लंबे समय से एतराज जताया जाता रहा है। इसे लेकर अदालतें कुछ मौकों पर नाराजगी जाहिर कर चुकी हैं। सरकार ने ऐसे लोगों पर नकेल कसने की भी कोशिश की, पर उसका

लापरवाह तंत्र

उदयपुर में एक दर्जी की हत्या का मामला अभी शांत भी नहीं पड़ा था कि महाराष्ट्र से भी ऐसी ही दहला देने वाली घटना सामने आ गई। हालांकि यह घटना पहले की है, पर खुलासा अब हुआ। पिछले महीने की इक्कीस तारीख को अमरावती में एक दवा विक्रेता की गला रेत कर हत्या कर

सुरक्षा की सड़क

अमूमन हर रोज देश में सड़कों पर होने वाले हादसों में जो लोग मारे जाते हैं, उनमें से ज्यादातर की जान बचाई जा सकती थी, अगर सिर्फ कुछ बातों का ध्यान रखा जाता। लेकिन हकीकत यह है कि न तो सरकारी महकमे सड़कों के सफर को सुरक्षित बनाने के इंतजामों और नियमों को

अमल की चुनौती

देश में अब एक बार इस्तेमाल किए जाने वाले प्लास्टिक के सामान पर प्रतिबंध लग गया है। पर्यावरण को स्वच्छ बनाने के लिहाज से यह महत्त्वपूर्ण और जरूरी कदम है। लेकिन इसे लेकर अब कामयाबी तभी हासिल हो पाएगी जब इस पर सख्ती से अमल हो। यों इस तरह के प्लास्टिक

रसोई पर मार

किसी न किसी रूप में खाने-पीने का सामान और रोजमर्रा के इस्तेमाल वाली चीजें जिस तरह से महंगी होती जा रही हैं, उसका सीधा असर आम आदमी पर ही पड़ रहा है। अभी तक तो महंगाई बढ़ने का सबसे बड़ा कारण पेट्रोल और डीजल के लगातार बढ़ते दाम ही बना हुआ था। इसका असर खुद

जीएसटी का बोझ

वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) की दर और दायरा बढ़ाते हुए जीएसटी परिषद ने खानपान और रोजमर्रा के इस्तेमाल वाली कई चीजों को कर दायरे में लाकर आम लोगों को बड़ा झटका दे दिया। जबकि कैसीनो, घुड़दौड़, आनलाइन गेमिंग और लाटरी पर अट्ठाईस फीसद कर लगाने के फैसले को यह

धर्मांधता की हिंसा

राजस्थान के उदयपुर में मंगलवार को धर्म के नाम पर बर्बर हत्या की जैसी घटना सामने आई, उसने सबको यह सोचने पर मजबूर कर दिया कि एक सभ्य समाज के रूप में हम कितना विकास कर सके हैं। गौरतलब है कि उदयपुर में एक व्यक्ति को दो लोगों ने क्रूरता से मार डाला, क्य

गरीब की चिंता

सेवा क्षेत्र में काम करने वाले अस्थायी कर्मचारियों की सामाजिक सुरक्षा को लेकर नीति आयोग की चिंता वाजिब है। आयोग ने अपनी रिपोर्ट में सरकार को सुझाव दिया है कि सेवा क्षेत्र में काम कर रहे लाखों लोगों की सामाजिक सुरक्षा सुनिश्चित की जानी चाहिए। आयोग क

बैठक के हासिल

जर्मनी में समूह सात देशों की शिखर बैठक में जलवायु, स्वास्थ्य और ऊर्जा संकट जैसे मुद्दे उठे तो जरूर, पर चर्चा का केंद्र बिंदु रूस और चीन को घेरने की रणनीतियों पर ही केंद्रित रहा। बैठक में रूस-यूक्रेन युद्ध का मुद्दा छाया रहा और अंत में यही तय हुआ कि

खींचतान की सत्ता

महाराष्ट्र में सत्ता के लिए चल रही खींचतान अब अदालत की परिधि में आकर एक नए दौर में प्रवेश कर गई है। सत्ताधारी गठबंधन महाविकास आघाडी की एक अहम घटक शिवसेना के भीतर हुई बगावत के बाद से यह स्थिति बनी हुई है कि मौका मिलते ही दोनों पक्ष नया दांव चल रहे ह

महंगाई का दंश

महंगाई को लेकर लंबे समय से हालात चिंताजनक ही बने हुए हैं। रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने एक बार फिर साफ कर दिया है कि अगले छह महीनों में महंगाई दर छह फीसद से ऊपर ही बनी रहेगी। जाहिर है, हाल-फिलहाल राहत नहीं मिलने वाली। हालांकि चौथी तिमाही म

टकराव के बीच

इस बार ब्रिक्स देशों (ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका) के चौदहवें शिखर सम्मेलन में यूक्रेन युद्ध, अफगानिस्तान संकट से लेकर शीत युद्ध के खतरों और वैश्विक अर्थव्यवस्था के हालात जैसे मुद्दे उठे। यह बैठक ऐसे मुश्किल वक्त में हुई है जब यूक्रेन

प्रदूषण पर पहरा

पिछले कई सालों से दिल्ली सरकार वायु प्रदूषण पर काबू पाने का प्रयास कर रही है, मगर इस दिशा में उसे अपेक्षित कामयाबी नहीं मिल पाई है। खासकर सर्दी के मौसम में जब हवा धरती की सतह के पास सिकुड़ आती है, तब दिल्ली में वायु प्रदूषण का प्रकोप जानलेवा साबित ह

भ्रष्टाचार का कठघरा

दिल्ली के नए उपराज्यपाल ने भ्रष्टाचार के मामले में यहां के कुछ अफसरों के खिलाफ जैसी कार्रवाई की है, उससे एक बार फिर यह जाहिर हुआ है कि राजनीतिक दलों की कथनी और करनी में कितनी बड़ी खाई हो सकती है। उपराज्यपाल ने दिल्ली सरकार के मातहत काम करने वाले तीन

Subscribe US Now