CUET परीक्षा के इंतजामों से छात्र नाखुश, NTA पर फूटा छात्रों का गुस्सा, बोले-ऐसा क्यों हुआ?

4 1 11
Read Time5 Minute, 17 Second

लंबे समय से सीयूईटी परीक्षाओं का इंतजार कर रहे तमाम छात्रों के लिए पहले दिन का अनुभव बहुत अच्छा नहीं रहा. 15 मई से सीयूईटी यूजी 2024 परीक्षा शुरू हुई है, लेकिन CUET (कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट) की शुरुआत के साथ ही छात्रों ने अव्यवस्था का आरोप लगाया है. वहीं, कई स्टूडेंट्स जो दिल्ली में एग्जाम देने वाले थे, परीक्षा कैंस‍िल होने से काफी नाराज दिखे. छात्रो का कहना है कि आख‍िर दिल्ली में ही परीक्षा को क्यों आगे बढ़ाया गया, उनके आगे भी कई प्र‍तियोगी एग्जाम हैं, जिसकी तैयारी करनी है.

बता दें कि नीट के बाद CUET UG देश का सबसे बड़ा एंट्रेंस एग्जाम बन चुका है.नेशनल एजुकेशन पॉलिसी लागू होने के बाद ही डीयू समेत देश के कई विश्व‍ विद्यालयों ने सीयूईटी लागू कर दिया था.नेशनल टेस्ट‍िंग एजेंसी इस एग्जाम को कंडक्ट कराती है. लेकिन इस एग्जाम में अव्यवस्था हो तो छात्रों का भड़कना भी वाजिब दिखता है.

एक छात्र ने कहा कि इस साल एनटीए ने सीयूईटी एग्जाम पैटर्न में भी कई बदवाल किए हैं.कहा गया था कि इस साल पिछले साल की तरह परेशानियां नहीं आएंगी. फिर भी तीसरे साल भी पहले दिन तमाम स्टूडेंट्स को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.छात्रों का कहना है कि नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने 13 मई को CUET एडमिट कार्ड जारी किया था. जैसे ही एक साथ बच्चे अपना सीयूईटी हॉल टिकट डाउनलोड करने लगे, तभी अगले दिन NTA ने कहा कि 14 मई की शाम से CUET हॉल टिकट डाउनलोड करें.

Advertisement

खैर इस मामले में NTA ने रात 1 बजे Twitter/X पर कहा कि अगर एडमिट कार्ड डाउनलोड में दिक्कत आए तो स्टूडेंट एग्जाम सेंटर पर अपने पुराने एडमिट कार्ड (13 मई को जारी) के साथ पहुंचकर परीक्षा दे सकते हैं. एनटीए के इस रवैये से छात्रों में खासा रोष व्याप्त रहा.

Advertisement

इतना ही नहीं, अगर पहले कर लिया है तो दोबारा करें. इसके पीछे वजह ये थी कि आपका एग्जाम सेंटर बदला जा सकता है. इसके बाद छात्रों ने 14 की शाम के बाद सीयूईटी यूजी हॉल टिकट डाउनलोड किया तो वेबसाइट ओवरलोड हो गई या क्या टेक्न‍िकल वजह थी, बहुत मुश्क‍िल से छात्रों को हॉल टिकट मिल पाया. यही नहीं NTA हेल्पलाइन काम न करने की श‍िकायतें भी मिलीं. अगली सुबह परीक्षा देने गए कई छात्रों को एग्जाम सेंटर पर बदइंतजामी का सामना करना पड़ा. किसी को सामान रखने की जगह नहीं मिल रही थी तो किसी सेंटर में कोई अव्यवस्था थी.

TOPICS:

\\\"स्वर्णिम
+91 120 4319808|9470846577

स्वर्णिम भारत न्यूज़ हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.

मनोज शर्मा

मनोज शर्मा (जन्म 1968) स्वर्णिम भारत के संस्थापक-प्रकाशक , प्रधान संपादक और मेन्टम सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Laptops | Up to 40% off

अगली खबर

Himachal News: वाइब्रेंट विलेज योजना से आस, चीन से सटे गांवों का तेजी से होगा विकास; फिर से बसेगा कौरिक

हंसराज सैनी, मंडी। हिमाचल प्रदेश के मंडी संसदीय क्षेत्र के दो जनजातीय जिले लाहुल-स्पीति व किन्नौर अब खामोश नहीं हैं। सीमांत गांवों में सन्नाटा नहीं है। अब वहां चीन का नहीं, भारत का मोबाइल नेटवर्क चलता है।

आपके पसंद का न्यूज

Subscribe US Now