Happy Birthday Sunil Gavaskar- नर्स की एक गलती और मछुआरा बन जाते सुनील गावस्कर... आज क्रिकेट के दिग्गजों में नहीं होता उनका नाम

4 1 20
Read Time5 Minute, 17 Second

Happy Birthday Sunil Gavaskar: क्रिकेट की दुनिया में 'लिटिल मास्टर' के नाम से मशहूर सुनील गावस्कर के लिए आज (10 जुलाई) का दिन बेहद खास है. भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और लीजेंड गावस्कर का आज जन्म दिन है और वह75 साल के हो गए हैं. उन्होंने अपने क्रिकेट करियर में कई ऐतिहासिक रिकॉर्ड बनाए हैं.

5 फुट 5 इंच के गावस्कर ने क्रिकेट के सबसे लंबे फॉर्मेट में कई यादगार पारियां खेलीं, जो आज भीफैन्स के जेहन में हैं. गावस्कर टेस्ट क्रिकेट में 10 हजार रन और 34 शतक के आंकड़े को छूने वाले दुनिया के पहले बल्लेबाज हैं.

गावस्कर के जीवन के कई ऐसे किस्से हैं, जिन्हें सुनकर फैन्स भी हैरान हो जाते हैं. मगर उनके जीवन की एक ऐसी सच्चाई है, जो किसी को भी हैरत में डाल सकती है. दरअसल, गावस्कर के साथ जन्म के समय अस्पताल में एक ऐसी घटना हुई थी, जिससे कारण उनका पूरा जीवन ही बदल जाता. यदि नर्स की वो गलती ठीक नहीं होती तो आज क्रिकेट के दिग्गजों में गावस्कर का नाम ही नहीं होता.

अस्पताल में गावस्कर के साथ हुई थी ये घटना

दरअसल, गावस्कर ने अपनी ऑटोबायोग्राफी 'Sunny Days' में बताया है कि 'मैं कभी क्रिकेटर नहीं बना होता और न ही यह किताब लिखी गई होती... अगर मेरी जिंदगी में तेज नजरों वाले नारायण मासुरकर नहीं होते.'

Advertisement

गावस्कर ने बताया, 'जब मेरा जन्म हुआ तब वो (जिन्हें बाद में मैं नन-काका कहकर बुलाता था) अस्पताल मुझे देखने आए थे और उन्होंने मेरे कान पर एक बर्थमार्क देखा था. अगले दिन वो फिर अस्पताल आए और उन्होंने जिस बच्चे को गोद में उठाया, उस बच्चे के कान पर वो निशान नहीं मिला. इसके बाद पूरे अस्पताल में बच्चों को चेक किया गया. जिसके बाद मैं उन्हें मछुआरे की पत्नी के पास सोता हुए मिला.'

Sunil Gavaskar. Getty

...तो मैं आज मछुआरा होता: गावस्कर

गावस्कर ने बताया, 'अस्पताल की नर्स ने गलती से मुझे वहां सुला दिया था. शायद बच्चों को नहलाते समय वह बदल गए थे. अगर उस दिन चाचा ने ध्यान नहीं दिया होता, तो हो सकता था कि मैं आज मछुआरा होता.' आपको बता दें किसुनील गावस्कर के क्रिकेटिंग करियर को आकार देने में उनके पिता मनोहर गावस्कर के साथ ही मां मीनल का अहम योगदान रहा. सुनील गावस्कर बचपन में टेनिस गेंदों से खेलते थे और उनकी मां उन्हें गेंदबाजी किया करती थीं.

सुनील गावस्कर ने साल 1971 में वेस्टइंडीज दौरे पर अपना टेस्ट डेब्यू किया था. वेस्टइंडीज के खिलाफ उस डेब्यू सीरीज में गावस्कर ने 4 टेस्ट मैचों में रिकॉर्ड 774 रन (दोहरा शतक सहित 4 शतक और तीन अर्धशतक) बनाए. इस दौरान गावस्कर का औसत 154.80 का रहा था. यह आज भी किसी डेब्यू सीरीजमें सर्वाधिक रन बनाने का विश्व रिकॉर्ड है.

Advertisement

किसी डेब्यू टेस्ट सीरीज में सबसे ज्यादा रन:

सुनील गावस्कर (भारत)- 4 मैच, 774 रन, 154.80 एवरेज, चार शतक
जॉर्ज हैडली (वेस्टइंडीज)- 4 मैच, 703 रन, 87.87 एवरेज, चार शतक
कोनराड हंटे (वेस्टइंडीज)- 5 मैच, 622 रन, 77.75 एवरेज, तीन शतक
हर्बर्ट कॉलिन्स (ऑस्ट्रेलिया)- 5 मैच, 557 रन, 61.88 एवरेज, दो शतक
बैरी रिचर्ड्स (साउथ अफ्रीका)- 4 मैच, 508 रन, 72.57 एवरेज, दो शतक

1971 के वेस्टइंडीज दौरे मेंगावस्कर का प्रदर्शन:

पोर्ट ऑफ स्पेन टेस्ट- पहली पारी 65 रन, दूसरी पारी 67* रन
जॉर्जटाउन टेस्ट- पहली पारी 116 रन, दूसरी पारी 64* रन
ब्रिजटाउन टेस्ट- पहली पारी 1 रन, दूसरी पारी 117 रन
पोर्टऑफ स्पेन टेस्ट- पहली पारी 124 रन, दूसरी पारी 220 रन

Sunil Gavaskar. Getty

दोनों पारियों में शतक जड़ने का कमाल दिखाया

सुनील गावस्कर ने तीन बार टेस्ट मैच की दोनों पारियों में शतक जड़ने का कमाल दिखाया था. यह उपलब्धि हासिल करने वाले वह इकलौते भारतीय हैं. 1971 में डेब्यू सीरीज में उन्होंने पोर्ट ऑफ स्पेन में वेस्टइंडीज के खिलाफ 124 और 220 रनों की पारी खेली थी.

इसके बाद उन्होंने 1978 में पाकिस्तान के खिलाफ कराची टेस्ट में111 और 137 रनों की पारी खेली, जिसे फैन्सआज भी याद करते हैं. उसी साल वहवेस्टइंडीज के खिलाफ कोलकाता टेस्ट कीभी दोनों पारियों में शतक लगाने में कामयाब रहे थे. कोलकाता टेस्ट में गावस्कर ने 107 और 182 रनों की पारी खेली थी.

Advertisement

गावस्कर का ऐसा रहा इंटरनेशनल रिकॉर्ड

सुनील गावस्कर ने 16 साल (1971-1987) के अपने टेस्ट करियर में कुल 125 टेस्ट मैच खेलकर 10,122 रन बनाए, जिसमें 34 शतक और 45 अर्धशतक शामिल रही. गावस्कर की टेस्ट में बल्लेबाजी औसत 51.12 की रही. उनके 34 शतकों का रिकॉर्ड 2005 में सचिन तेंदुलकर ने तोड़ा था. गावस्कर ने 108 वनडे इंटरनेशनल में में 35.13 की औसत से 3092 रन बनाए. वनडे में उनके बल्ले एक ही शतक निकला, वो भी 107वें मैच में. गावस्कर 1983 वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम का भी हिस्सा थे.

सुनील गावस्कर ने 47 टेस्ट और 37 वनडे इंटरनेशनलमें भारत की कप्तानी की. टेस्ट क्रिकेट में गावस्कर की कप्तानी में भारत ने 9 मुकाबले जीते और 8 मेंहार मिली, जबकि30 टेस्ट मैच ड्रॉ रहे. वनडे इंटरनेशनलमें गावस्कर की कप्तानी में भारत ने 14 मुकाबले जीते, वहीं 21 में टीम को हार का सामना करना पड़ा और दो मैच बेनतीजा रहे.

\\\"स्वर्णिम
+91 120 4319808|9470846577

स्वर्णिम भारत न्यूज़ हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.

मनोज शर्मा

मनोज शर्मा (जन्म 1968) स्वर्णिम भारत के संस्थापक-प्रकाशक , प्रधान संपादक और मेन्टम सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Laptops | Up to 40% off

अगली खबर

Punjab News- शंभू बॉर्डर पर धरना दे रहे किसान करने लगे दिल्ली कूच की तैयारी, बांध रहे अपना-अपना सामान

स्वर्णिम भारत न्यूज़ संवाददाता, पटियाला। हरियाणा की सीमा से सटे शंभू बॉर्डर पर पांच महीने से धरने पर बैठे किसान अब दिल्ली कूच की तैयारी करने लगे हैं। रविवार को शंभू में किसान नेता सरवन सह पंधेर ने किसान जत्थेबंदियों के साथ बैठक कर उन्हें दिल्ली क

आपके पसंद का न्यूज

Subscribe US Now