राजस्थान की पूर्व उप मुख्यमंत्री श्रीमती कमला का निधन, सिर्फ इतने साल की उम्र में लिया था भारत छोड़ो आंदोलन में हिस्सा

स्वर्णिम भारत न्यूज़ संवाददाता, जयपुर। पूर्व राज्यपाल और राजस्थान की पूर्व उप मुख्यमंत्री श्रीमती कमला का बुधवार को 97 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। बुधवार दोपहर में उपचार के दौरान जयपुर के फोर्टिस अस्पताल में श्रीमती कमला का निधन हुआ है। दोपहर म

4 1 4
Read Time5 Minute, 17 Second

स्वर्णिम भारत न्यूज़ संवाददाता, जयपुर। पूर्व राज्यपाल और राजस्थान की पूर्व उप मुख्यमंत्री श्रीमती कमला का बुधवार को 97 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। बुधवार दोपहर में उपचार के दौरान जयपुर के फोर्टिस अस्पताल में श्रीमती कमला का निधन हुआ है। दोपहर में भोजन करने के बाद अचानक उनका स्वास्थ्य बिगड़ने पर स्वजनों ने फोर्टिस अस्पताल में भर्ती करवाया, जहां उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई। उनका अंतिम संस्कार गुरुवार को होगा।

loksabha election banner

11 साल की उम्र में लिया था भारत छोड़ो आंदोलन में हिस्सा

श्रीमती कमला के एक पुत्र और चार पुत्रियां हैं। श्रीमती कमला का जन्म 12 जनवरी,1927 को झुंझुनूं जिले के गोरिर गांव में हुआ था। उन्होंने 11 साल की उम्र में भारत छोड़ो आंदोलन में हिस्सा लिया था। राजस्थान विश्वविद्यालय में इतिहास में स्नातकोत्तर तक की शिक्षा ग्रहण करने के बाद वे राजनीति के मैदान में उतरी और सात बार विधायक रहीं। वे 2014 तक राजनीति में सक्रिय रही और फिर गुजरात, त्रिपुरा व मिजोरम की राज्यपाल रही। कांग्रेस में कई पदों पर भी रहीं।

तत्कालीन नरेन्द्र मोदी सरकार के साथ रहा था कई मुद्दों पर टकराव

श्रीमती कमला का गुजरात के राज्यपाल रहते हुए तत्कालीन नरेन्द्र मोदी सरकार के साथ कई मुद्दों पर टकराव रहा था। 2011 में लोकायुक्त की नियुक्ति को लेकर श्रीमती कमला और गुजरात सरकार के बीच विवाद हुआ था। श्रीमती कमला ने राज्य सरकार की बिना सलाह के आर.ए.मेहता को लोकायुक्त नियुक्त कर दिया था। बाद में गुजरात विधानसभा में लोकायुक्त की नियुक्ति को लेकर विधेयक पारित हुआ था। श्रीमती कमला ने विधेयक में कई गलतियां बताते हुए उसे मंजूरी देने से इनकार कर दिया था।

पीएम सहित कई नेताओं ने जताया शोक

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे, राजस्थान के मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा, पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव सचिन पायलट सहित कई नेताओं ने श्रीमती कमला के निधन पर शोक जताया है।

यह भी पढ़ेंःरूस ने फिर दिखाया अमेरिका को आंख! ब्लिंकन के यूक्रेन में रहते किया ये कारनामा; कई अमेरिकी निर्मित मिसाइलों को किया खाक

Supreme Court: 'गर्भ में पल रहे भ्रूण को भी जीने का मौलिक अधिकार', SC ने अविवाहिता के वकील के इस तर्क पर क्यों कहा सॉरी?

\\\"स्वर्णिम
+91 120 4319808|9470846577

स्वर्णिम भारत न्यूज़ हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.

मनोज शर्मा

मनोज शर्मा (जन्म 1968) स्वर्णिम भारत के संस्थापक-प्रकाशक , प्रधान संपादक और मेन्टम सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Laptops | Up to 40% off

अगली खबर

Bengal: 2010 के बाद जारी सभी OBC प्रमाणपत्र HC ने किए रद, ममता बोलीं- हमें मंजूर नहीं ये आदेश; PM ने कहा- कोर्ट का फैसला INDI गठबंधन पर तमाचा

राज्य ब्यूरो, स्वर्णिम भारत न्यूज़, कोलकाता। कलकत्ता हाई कोर्ट बुधवार को वर्ष 2010 के बाद तृणमूल सरकार द्वारा जारी कई वर्गों के अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) प्रमाणपत्र को असंवैधानिक बताते हुए उसे रद कर दिया है। फैसला सुनाए जाने के बाद रद किए गए प्रमा

आपके पसंद का न्यूज

Subscribe US Now