POK में बिजली-आटे पर बवाल, हालात बेकाबू! झड़प में एक पुलिस अधिकारी की मौत, 100 से ज्

Pakistan : पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में अब बगावत तेज हो गई है. पाकिस्तान के कब्जे (POK) वाले कश्मीर में गेहूं के आटे और बिजली की ऊंची कीमतों के खिलाफ आंदोलन कर रहे प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच हिंसक झड़पों में एक पुलिस अधिकारी की

4 1 19
Read Time5 Minute, 17 Second

Pakistan : पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में अब बगावत तेज हो गई है. पाकिस्तान के कब्जे (POK) वाले कश्मीर में गेहूं के आटे और बिजली की ऊंची कीमतों के खिलाफ आंदोलन कर रहे प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच हिंसक झड़पों में एक पुलिस अधिकारी की मौत हो गई जबकि 100 से ज्यादा लोग घायल हो गए हैं. घायलों में ज्यादातर पुलिसकर्मी हैं. मीडिया रिपोर्ट्स में रविवार ( 12 मई ) को यह जानकारी दी गई है.

एक रिपोर्ट के अनुसार, विवादित क्षेत्र में शनिवार (11 मई ) को पुलिस और अधिकार आंदोलन के कार्यकर्ताओं के बीच झड़पें हुईं और पूरे इलाके में चक्का जाम कर दिया गया और दूकानें बंद रखी गई. मीरपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (SSP) कामरान अली ने डॉन डॉट कॉम को बताया कि सब-इंस्पेक्टर अदनान कुरैशी की इस्लामगढ़ शहर में सीने में गोली लगने से मौत हो गई है. कुरैशी वहां दूसरे पुलिसकर्मियों के साथ कोटली और पुंछ जिला होते हुए मुजफ्फराबाद जा रही एक रैली को रोकने के लिए तैनात थे. साथ ही उन्होंने बताया कि यह रैली जम्मू कश्मीर संयुक्त अवामी एक्शन कमेटी (जेएएसी) के बैनर तले निकाली गई थी.

शुक्रवार ( 10 मई ) को हड़ताल के बीच POK की राजधानी मुजफ्फराबाद के अलग-अलग इलाकों में पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हिंसक झड़पें हुईं. प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा कि मुजफ्फराबाद डिवीजन और पुंछ डिवीजन में पूरी तरह हड़ताल रही.

क्षेत्रीय सरकार ने बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन को रोकने के लिए भारी संख्या में पुलिसकर्मियों को बुलाया है. SSP यासीन बेग ने कहा कि कम से कम एक पुलिस अधिकारी और एक युवा लड़का घायल हो गए क्योंकि प्रदर्शनकारियों के पथराव करने और बोतलें फेंके जाने के बाद पुलिस ने कुछ इलाकों में आंसू गैस के गोले भी छोड़े और हवाई फायरिंग की. बता दें, कि कोटली के एसएसपी मीर मुहम्मद आबिद ने कहा कि जिले में "विरोध की आड़ में उपद्रवियों के हमलों" में कम से कम 78 पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं.

आखिर क्यों भड़के हुए हैं लोग?

पाकिस्तान में प्रोटेस्ट इसलिए हो रहे हैं क्योंकि वहां पर रोजमर्रा की चीजें काफी महंगी हो गई हैं. पीओके के लोगों का प्रोटेस्ट इसलिए भी है क्योंकि पाकिस्तान PoK के प्राकृतिक संसाधनों को पड़ोसी देश चीन को बेच रहा है. इसका अदाहरण है पाकिस्तान के CPEC कॉरिडोर. पाकिस्तान ने बलूचिस्तान से लेकर पीओके और गिलगिट-बाल्टिस्तान तक के इलाका चीन के पास गिरवी रख चुका है.

PoK का हिस्सा चीन को बेचने की साजिश

चीन अब PoK में चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे का फेज-2 लॉन्च करने जा रहा है. इसका खुलासा तब हुआ, जब पाकिस्तान के योजना मंत्री एहसान इकबाल चीन के दौरे पर पहुंचे और उन्होंने चीनी विदेश मंत्रालय के वाइस मिनिस्टर सुन वीदोंग से मुलाकात की. सुन वीदोंग गलवान की घटना के समय भारत में राजदूत रह चुके हैं.

पाकिस्तान को इस वक्त पैसों की बहुत जरूरत है और इसी वजह से PoK का हिस्सा चीन को बेचकर पाकिस्तान पैसा जुटाना चाहता है. ये बात PoK की जनता बखूबी समझ रही है, इसीलिए वहां बगावत की आवाज उठ रही है. PoK का यही गुस्सा पाकिस्तान को भारी पड़ने वाला है.

\\\"स्वर्णिम
+91 120 4319808|9470846577

स्वर्णिम भारत न्यूज़ हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.

मनोज शर्मा

मनोज शर्मा (जन्म 1968) स्वर्णिम भारत के संस्थापक-प्रकाशक , प्रधान संपादक और मेन्टम सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Laptops | Up to 40% off

अगली खबर

Bengal: 2010 के बाद जारी सभी OBC प्रमाणपत्र HC ने किए रद, ममता बोलीं- हमें मंजूर नहीं ये आदेश; PM ने कहा- कोर्ट का फैसला INDI गठबंधन पर तमाचा

राज्य ब्यूरो, स्वर्णिम भारत न्यूज़, कोलकाता। कलकत्ता हाई कोर्ट बुधवार को वर्ष 2010 के बाद तृणमूल सरकार द्वारा जारी कई वर्गों के अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) प्रमाणपत्र को असंवैधानिक बताते हुए उसे रद कर दिया है। फैसला सुनाए जाने के बाद रद किए गए प्रमा

आपके पसंद का न्यूज

Subscribe US Now