पालतू कुत्तों की शादी, साथ खेलने और खाना बांटने की कसमें... चीन में यह क्या चल रहा?

चीन में पालतू जानवरों (बिल्लियों और कुत्तों) की शादियां लोकप्रिय हो रही हैं. जानवरों को पालने का शौक और उन पर खर्च करने की इच्छा इस ट्रेंड को बढ़ा रही है. हालांकि सरकार की तमाम कोशिशों के बावजूद मानव विवाह को प्रोत्साहित करने की नीतियों को बहुत कम

4 1 23
Read Time5 Minute, 17 Second

चीन में पालतू जानवरों (बिल्लियों और कुत्तों) की शादियां लोकप्रिय हो रही हैं. जानवरों को पालने का शौक और उन पर खर्च करने की इच्छा इस ट्रेंड को बढ़ा रही है. हालांकि सरकार की तमाम कोशिशों के बावजूद मानव विवाह को प्रोत्साहित करने की नीतियों को बहुत कम सफलता मिली है.

हाल ही में ब्री और बॉन्ड, दो गोल्डन रिट्रीवर की भव्य शादी का आयोजन किया गया. एक खूबसूरत जगह पर हुए इस फंक्शन में रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, जानवरों के मालिक और कुत्ते के दोस्त शामिल हुए. जानवरों को साथ खेलने और खाना हमेशा बांट कर खाने का वचन दिलवाया गया.

ब्री के मालिक राई लिंग ने कार्यक्रम के बाद रॉयटर्स से कहा, ‘लोग शादियां करते हैं. कुत्तों की शादियाँ क्यों नहीं हो सकतीं?’

एक विशेष समारोह लिंग और उसकी गर्लफ्रेंड गिगी चेन ने कुत्ते के समारोह की सावधानीपूर्वक योजना बनाई. प्रोफेशनल फोटोग्राफरों को काम पर रखा, शादी की बुकलेट डिज़ाइन कीं और 800 युआन (9,187.44 INR) का कस्टम-मेड केक मंगवाया.

यांग ताओ, जिनकी शंघाई स्थित पेट बेकरी ने केक तैयार किया, ने कहा, ‘मुझे लगता है कि कुत्तों की शादियाँ ज़्यादा से ज़्यादा होंगी.’ उन्होंने 2022 में अपनी बेकरी के लॉन्च होने के बाद से इसी तरह के कई ऑर्डर का ज़िक्र किया.

चीन में पालतू जानवरों का बढ़ता बाजार 2023 में, चीन में पालतू जानवरों पर खर्च 3.2% बढ़कर 279.3 बिलियन युआन ($38.41 बिलियन) हो गया. एक्यूटी नॉलेज पार्टनर्स के अनुसार, शहरी चीन में 116 मिलियन से ज़्यादा बिल्लियां और कुत्ते हैं. हर आठ में से एक शहरी चीनी के पास पालतू जानवर है.

चीन घटती जनसंख्या से परेशान बता दें चीन सरकार घटती जनसंख्या से परेशान है. विवाह संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए केंद्र और राज्य सरकारें कई तरह की योजनाएं चला रही हैं लेकिन उन्हें बहुत सफलता नहीं मिल रही हैं.

Photo courtesy: Reuters

\\\"स्वर्णिम
+91 120 4319808|9470846577

स्वर्णिम भारत न्यूज़ हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.

मनोज शर्मा

मनोज शर्मा (जन्म 1968) स्वर्णिम भारत के संस्थापक-प्रकाशक , प्रधान संपादक और मेन्टम सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Laptops | Up to 40% off

अगली खबर

10वीं में थर्ड डिवीजन, हर शुक्रवार मूवी का चस्का... बिना UPSC परीक्षा दिए IPS बनने वाले अनिल राय की कहानी

नई दिल्ली: उसे फिल्मों का बड़ा चस्का था। इधर फिल्म रिलीज होती और उधर पहले दिन का पहला शो देखने वो सिनेमा हॉल के बाहर खड़ा नजर आता। पढ़ाई-लिखाई में उसकी दिलचस्पी ना के बराबर थी। लेकिन पिता के दबाव की वजह से वो स्कूल चला जाता था। पिता की ख्वाहिश थ

आपके पसंद का न्यूज

Subscribe US Now